UPS क्या है? इसके क्या उपयोग है

UPS Full Form in Hindi:- यदि आप यहां पर हैं और इस लेख को पढ़ रहे हैं, तो इसका मतलब है कि आप NRC के बारे में खोज कर रहे हैं।

यदि हाँ, तो आप बिलकुल सही स्थान पर हैं। जी हां, इस लेख में हमने UPS से संबंधित सम्पूर्ण जानकारी प्रदान की है।

अतः UPS Full Form व उससे सम्बंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को पूरा जरुर पढ़िए। तो चलिए शुरू करते है:-

UPS क्या है? (What is UPS in Hindi)

UPS एक ऐसा उपकरण है, जो कि बिजली चले जाने पर आपके कंप्यूटर को बंद नहीं होने देता है। जरा सोचिये कि आप अपने कंप्यूटर पर कुछ जरुरी काम कर रहे है और अचानक आपके घर की बिजली कट जाए।

ऐसी स्थति में अगर आपने अपना किया हुआ पूरा काम अगर संरक्षित (Save) नहीं किया है तो आपका पिछला पूरा काम मिट (Delete) जायेगा।

लेकिन अगर आपके पास UPS है तो बिजली के कट जाने के बाद भी UPS आपके कंप्यूटर को बंद नहीं होने देता है और आपकी मेहनत बर्बाद होने से बच जाएगी।

UPS के अंदर एक बैटरी होती है, जो कि कंप्यूटर को लगभग 30 से 40 मिनट तक बिजली प्रदान करती है।

जिससे अगर घर की मुख्य बिजली की आपूर्ति बंद भी हो जाने पर हम अपने कंप्यूटर को सुरक्षित रूप से बंद कर सकते है।

एक प्रकार से देखा जाये तो UPS के बिजली आपूर्ति प्रदान करने का समय बहुत कम है। लेकिन अतिरिक्त आपूर्ति स्रोत (Standby Power Source) पर्याप्त समय है।

UPS का सबसे मुख्य कार्य आपके घर की अचानक बिजली कटौती हो जाने पर कंप्यूटर, बिजली के उपकरण, कंप्यूटर और डेटा केंद्र (Data Center) जैसे उपकरणों को सुरक्षा प्रदान कर उन्हें क्षतिग्रस्त (Damaged) होने से बचाना है।

UPS का परिपथ (UPS Circuit in Hindi)

UPS का परिपथ (Circuit) आरेख नीचे दिया गया है, जिसे देखने पर पता चलता है कि बिजली की कटौती या खराबी के दौरान उपकरणों की बैटरी कैसे नियंत्रित करती है।

ट्रांसफार्मर (Transformer) (TR1) की प्राथमिक वक्र (Primary Winding) का निवेश खिंचाव (Input Voltage) 240V है।

ट्रांसफार्मर की माध्यमिक वक्र (Secondary Winding) (TR2) को 15V तक बढ़ाया जा सकता है यदि Value कम से कम 12V (2 amps) चल रहा है।

फ्यूज का उपयोग लघु परिपथ (Short Circuit) से उल्लू परिपथ (Owl Circuit) को सुरक्षा देने के लिए किया जाता है। बिजली की उपस्थिति चमक के लिए LED1 का कारण बनेगी।

LED की खराबी से बिजली बाधित होगी और UPS की बैटरी खत्म हो जाएगी। इस परिपथ (Circuit) को अधिक लचीला स्वरूप प्रदान करने के लिए बनाया गया है।

जहां इसे अलग-अलग बैटरी और नियामकों का उपयोग करके विनियमित और अनियमित वोल्टेज की पेशकश के लिए संशोधित किया जा सकता है।

श्रृंखला में दो 12V बैटरी और 7815 नियामकों के एक सकारात्मक इनपुट का उपयोग करके हम 15 वोल्ट की आपूर्ति को नियंत्रित कर सकते हैं।

UPS FULL FORM IN HINDI & ENGLISH

UPS FULL FORM IN ENGLISH
UNINTERRUPTIBLE POWER SUPPLY
UPS FULL FORM IN HINDI
अबाधित विद्युत आपूर्ति

UPS के प्रकार (Types of UPS in Hindi)

सामान्यतः UPS 3 प्रकार के होते है। UPS के तीनों प्रकारों के नाम के साथ-साथ उनके बारे में विस्तारपूर्वक वर्णन नीचे दिया गया है।

  • Stand By UPS
  • Line Interactive UPS
  • Delta Conversion On-line

1. Stand By UPS

UPS के कुल 3 प्रकारों (Types) में से एक Stand By UPS है। इसका इस्तेमाल अपने निजी कंप्यूटर (Personal Computer) में करते है।

Stand By UPS आपके कंप्यूटर या किसी भी इलेक्ट्रोनिक उपकरण उस समय आपूर्ति (Supply) देता है, जब आपके कंप्यूटर की मुख्य आपूर्ति (Main Power) बंद हो जाती है।

Stand By UPS सबसे पहले स्वयं को आवेश (Charge) करता है और फिर बंद होने पर उस उपभोग की हुई शक्ति (Consumed Power) को कंप्यूटर को आपूर्ति (Supply) प्रदान करता है।

2. Line Interactive UPS

यह Stand By UPS से पूर्णतया अलग होता है। Line Interactive UPS उच्च (High) और कम (Low) वोल्टेज के समय उचित वोल्टेज प्रदान करता है।

यह इन्वर्टर (Inverter) दो प्रकार से कार्य करता है। जब मुख्य आपूर्ति (Main Power) होती है, तो यह बैटरी को आवेश (Charge) प्रदान करता है और Voltage को विनियमित (Regulate) करता है।

जब मुख्य आपूर्ति (Main Power) बंद होती है तो यह सामान्य Inverter की तरह कार्य करता है।

3. Delta Conversion On-line

Double Conversion UPS की कमियों में सुधार करके Delta Conversion UPS का निर्माण किया गया।

इस UPS में दोहरे रूपांतरण (Double Conversion) की हानियों (Disadvantage) को हटाया गया है।

डेल्टा रूपांतरण प्रौद्योगिकी (Delta Conversion Technology) शुरुआत (Starting) और आखिरी बिंदु (Ending Point) के बीच में Package Carry करके ऊर्जा (Energy) को संरक्षित (Save) करता है।

यह Line UPS के Voltage का उचित रखरखाव (Proper Maintain) करता है।

UPS के पुर्जे और घटक (Parts & Components of UPS in Hindi)

कोई भी और किसी भी प्रकार का उपकरण अकेला काम नहीं करता है। बल्कि उस उपकरण में मौजूद उसके पुर्जे मिलकर कार्य करते है, तब जाकर कोई उपकरण कार्यरत होता है।

ठीक इसी प्रकार नीचे आपको UPS में मौजूद सभी पुर्जों और घटकों की विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की गई है।

UPS कुल मिलाकर 4 पुर्जों और घटकों (Parts) से मिलकर बना होता है। जिनके नाम व उनका विस्तारपूर्वक वर्णन नीचे दिया गया है।

  • Rectifier
  • Battery
  • Inverter
  • Static Switch or Contactor

1. Rectifier

अगर Rectifier की बात की जाये तो इसका मुख्य कार्य प्रत्यावर्ती धारा (Alternative Current) को दिष्ट धारा (Direct Current) में बदलना (Convert) है।

इसका इस्तेमाल बैटरी को आवेश (Charge) प्रदान करने के लिए किया जाता है। यह इन्वर्टर परिपथ (Circuit) में ठीक (Fit) होता है।

2. Battery

Battery का उपयोग ऊर्जा (Energy) को इकठ्ठा (Store) करने के लिए किया जाता है। जिससे मुख्य विद्युत् आपूर्ति के बंद होने पर इसका उपयोग किया जा सके।

यह बैटरी सीसा तेजाब (Lead Acid) या आवश्यकता के अनुसार हो सकता है।

3. Inverter

Inverter का मुख्य कार्य Rectifier से बिलकुल उल्टा होता है। यह भार (Load) के लिए उपयोग में आने वाली दिष्ट धारा (Direct Current) को प्रत्यावर्ती धारा (Alternative Current) में बदल (Convert) देता है।

इन्वर्टर एक उत्तपादन रंग (Output Sinewave) होता है, जो दिष्ट धारा (Direct Current) को लगातार आवृत्ति (Constant Frequency) और आयाम (Amplitude) को प्रत्यावर्ती धारा (Alternative Current) में बदल (Convert) देता है।

4. Static Switch or Contactor

Static Switch or Contactor का मुख्य कार्य आपूर्ति के स्रोत (Source) को स्थानांतरण (Transfer) करने के लिए होता है।

इसका उपयोग आम तौर पर 10 मिली सेकेंड के अंदर बदलने (Switching) वाले बटन (Switch) के लिए किया जाता है।

UPS कैसे कार्य करता है? (How UPS Works in Hindi)

एक UPS कुल 4 प्रकार से कार्य करता है और आपके यांत्रिक उपकरण को सुरक्षा प्रदान करता है। UPS के कार्य करने की चारों विधियों का विस्तारपूर्वक वर्णन नीचे किया गया है।

  • Voltage Surges and Spikes
  • Voltage Sags
  • Totals Power Failure
  • Frequency Difference

1. Voltage Surges and Spikes

एक कंप्यूटर में बिजली (Electricity) का प्रवाह एक से अधिक बार बहुत ज्यादा होता है, तो उस वक़्त UPS बिजली (Electricity) के उस प्रवाह को सहन करके कंप्यूटर तक उचित बिजली (Electricity) प्रवाहित करता है.

2. Voltage Sags

कईं बार ऐसा भी होता है कि जब बिजली (Electricity) का प्रवाह कम होता है और वो आपके कंप्यूटर के काम करने के लिए उपयुक्त (Suitable) नही होती है।

UPS एक ऐसा उपकरण है जो आपके कंप्यूटर को बिजली की आपूर्ति (Electricity Power Supply) प्रदान करता है तो उस स्थिति में भी ये आपके कंप्यूटर को उचित बिजली (Electricity) बना कर प्रवाहित करता है।

3. Totals Power Failure

UPS का उपयोग इसीलिए किया जाता है कि अचानक बिजली आपूर्ति (Electricity Power) के बंद हो जाने के बाद आपको इतना समय मिल सके कि आप अपने उपयोगी कार्य को सुरक्षित (Save) कर सके।

4. Frequency Difference

कभी-कभी बिजली (Electricity) कम या ज्यादा हो जाती है, इसे ही विद्युत कंपन्न (Power Oscillation) कहते है। जिसका मतलब होता है कि बिजली आपूर्ति (Electricity Power) का कम या ज्यादा होते रहना।

इस स्थिति में कंप्यूटर को सबसे अधिक हानि पहुँच सकती है और कंप्यूटर का मदरबोर्ड (Motherboard) भी ख़राब हो सकता है। इसके साथ ही कंप्यूटर की Display भी ख़राब हो सकती है।

लेकिन अगर आप कंप्यूटर मे UPS का उपयोग करते है, तो ऐसी स्थिति में UPS कंप्यूटर को इस तरह के सभी नुकसानों से सुरक्षित (Safe) रखता है।

UPS के फायदे (Benefits of UPS in Hindi)

UPS दैनिक जीवन में उपयोग में आने वाला उपकरण है। नीचे आपको UPS के कुछ फायदे दिए हुए है:-

  • UPS की सबसे खास बात यह है कि यह विद्युत् आपूर्ति के बंद हो जाने पर भी यह निरंतर काम करता रहता है। यह Data का पूर्तिकर (Backup) भी देता है।
  • UPS आपके कंप्यूटर में बिजली के कारण होने वाली अस्थिरता को नियंत्रित करके कंप्यूटर को प्रभावित करने वाली सभी प्रकार की हानियों को नियंत्रित (Control) करता है।
  • UPS आपके कंप्यूटर को एक संतुलित धारा (Current) प्रवाह करता है। जिससे यह आपके कंप्यूटर को बिजली चले जाने पर भी इतना वक्त देता है कि आप अपने Data को सुरक्षित (Save) कर सकते है।
  • UPS एक बहुत ही बेहतरीन आपातकालीन शक्ति स्रोत (Emergency Power Source) है। जिससे आपकी मुख्य विद्युत् आपूर्ति बंद हो जाने पर आप इसकी मदद से घर के बिजली यंत्रों को चला सकते है।

Frequently Asked Questions (FAQs) About UPS

What is The Use of UPS in Hindi?

UPS की सबसे खास बात यह है कि यह विद्युत् आपूर्ति के बंद हो जाने पर भी यह निरंतर काम करता रहता है। यह Data का पूर्तिकर (Backup) भी देता है।
UPS आपके कंप्यूटर में बिजली के कारण होने वाली अस्थिरता को नियंत्रित करके कंप्यूटर को प्रभावित करने वाली सभी प्रकार की हानियों को नियंत्रित (Control) करता है।
UPS आपके कंप्यूटर को एक संतुलित धारा (Current) प्रवाह करता है। जिससे यह आपके कंप्यूटर को बिजली चले जाने पर भी इतना वक्त देता है कि आप अपने Data को सुरक्षित (Save) कर सकते है।
UPS एक बहुत ही बेहतरीन आपातकालीन शक्ति स्रोत (Emergency Power Source) है। जिससे आपकी मुख्य विद्युत् आपूर्ति बंद हो जाने पर आप इसकी मदद से घर के बिजली यंत्रों को चला सकते है।

How Does a UPS Work in Hindi?

Voltage Surges and Spikes
Voltage Sags
Totals Power Failure
Frequency Difference

What are The Types of UPS in Hindi?

Stand By UPS
Line Interactive UPS
Delta Conversion On-line

What is The UPS Full Form in English?

UNINTERRUPTIBLE POWER SUPPLY

What is UPS Full Form in Hindi?

अबाधित विद्युत आपूर्ति

UPS Full FormUPS Full Form in Computer
UPS Full Form in EnglishUPS Full Form in Hindi
UPS Full Form Computer in HindiUPS Full Form in Electrical
What is UPS Full FormWhat is UPS Full Form in Hindi
What is UPS Full FormWhat is UPS Full Form in Computer
UPS Full Form in Hindi

यह भी पढ़े:-

OKR Full FormNRC Full Form
RIP Full FormXML Full Form

निष्कर्ष

अंत में आशा करता हूँ कि यह UPS Full Form लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान कि गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस UPS Full Form लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रो व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें।

इसके अतिरिक्त, यदि आपके मन में UPS Full Form लेख से संबंधित कोई प्रश्न उठ रहा है? तो आप कमेंट के माध्यम से हमसे पूछ सकते हैं।

हम आपके द्वारा पूछे गए सभी के प्रश्नों का उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे। भविष्य में भी हम आपके लिए ऐसे ही रोचक व उपयोगी लेख लाते रहेंगे।

अतः आप भविष्य में प्रकाशित होने वाले सभी लेखों कि ताज़ा जानकारी के लिए कृपया हमारे फेसबुक पेज और वेबसाइट को Subscribe कर ले।

ताकि आपको भविष्य में प्रकाशित होने वाले लेखों की ताज़ा जानकारी समय पर प्राप्त हो जाये।

धन्यवाद…

Leave a Comment