सभी 6 ऋतुओं के नाम और उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी : All 6 Seasons Name in Hindi

All 6 Seasons Name in Hindi:- अगर आप इस लेख को पढ़ रहे है, तो इसका मतलब है कि आप सभी ऋतुओं के नाम और उनसे जुड़ी जानकारी के बारे में खोज रहे है।

अगर आप सच में 6 Seasons Name in Hindi के बारे में खोज रहे है, तो आपकी महत्वपूर्ण खोज यहीं पर एक उपयोगी जानकारी से परिपूर्ण लेख के साथ खत्म होती है।

जी हाँ, इस लेख में आपको सभी 6 ऋतुओं के नाम तथा उनसे सम्बंधित जानकारी प्राप्त होगी। ऋतुओं का सीधा-सीधा सम्बन्ध, मौसम, जलवायु और तापमान के परिवर्तन से है।

दरअसल, निरंतर समय चक्र के अनुसार मौसम, जलवायु और तापमान में होने वाले परिवर्तन को ही ऋतु कहते है।

पृथ्वी निरंतर गति से बिना रुके सूर्य के चारों और चक्कर लगाती है, जिससे समय चक्र में बदलाव होता है और समय चक्र के बदलाव के फ़लस्वरूप ऋतुओं में बदलाव होता है।

सूर्य की परिक्रमा करते समय पृथ्वी का जो भाग सूर्य के नजदीक रहता है, वहां पर सूर्य का ताप अधिक पड़ता है, जिससे उस स्थान पर ग्रीष्म (गर्मी) ऋतु का समय होता है।

इसी प्रकार सूर्य की परिक्रमा करते समय पृथ्वी का जो भाग सूर्य से दूर रहता है, वहां पर सूर्य का ताप अपेक्षाकृत कम पड़ता है, जिससे उस स्थान पर शीत (शिशिर) ऋतु का समय होता है.

CONTENT SHOW

भारत में कुल कितनी ऋतुएँ है? (How Many Seasons are There in India?)

6 Seasons Name in Hindi & English
6 Seasons Name in Hindi & English

इस पृथ्वी पर कुल 193 देश है, जो कि पृथ्वी के अलग-अलग छोरों पर मौजूद है। जहाँ कि जलवायु, मौसम और तापमान अलग-अलग होता है, इसे ही ऋतु कहा जाता है।

इस पृथ्वी पर कुल 6 ऋतुएँ मौजूद है। जिनमें प्रत्येक ऋतु की अवधि 2 माह की होती है। इस प्रकार से एक वर्ष में कुल 6 ऋतुएँ होती है।

लेकिन सभी देशों में ऐसी समान स्थिति नहीं होती है। कुछ देश ऐसे भी मौजूद है, जहाँ पर सिर्फ 2 या 4 ऋतु ही होती है।

अगर भूमध्य रेखा के पास स्थित देश जैसे:- अफ्रीका, कंबोडिया, ऑस्ट्रेलिया और फिलिपिन्स आदि की बात की जाए तो यहाँ सिर्फ 2 ऋतुएँ ही होती है।

वहीँ अगर यूरोपीय देश जैसे:- ब्रिटेन, फ़्रांस, नीदरलैंड और स्पेन आदि की बात की जाए तो, यहाँ पर कुल 4 ऋतुएँ होती है।

जबकि कुछ ऐसे देश भी मौजूद है, जहाँ पर कुल 6 ऋतुएँ होती है। इन देशों में भारत, नेपाल, भूटान और बांग्लादेश जैसे देश शामिल है।

ये भी पढ़े:-

Week Days Name in Hindi : सप्ताह के 7 दिनों का नाम हिंदी में

12 Months Name in Hindi : हिंदी पंचांग के 12 महीनों के नाम हिंदी में

Colours Name in Hindi : रंगों के नाम हिंदी में तस्वीरें सहित

Fruits Name in Hindi : सभी फलों के नाम हिंदी में उनकी तस्वीरें सहित

1 से 100 तक हिंदी गिनती : 1 to 100 Hindi Ginti

Musical Instruments Name in Hindi : संगीत वाद्ययंत्रों के नाम हिंदी में

सभी 6 ऋतुओं के नाम हिंदी और अंग्रेजी में (All 6 seasons Name in Hindi & English)

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि इस पृथ्वी पर कुल 6 ऋतुएँ है। तो चलिए अब उन ऋतुओं के नामों के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेते है। नीचे आपको सभी 6 ऋतुओं के नाम हिंदी और अंग्रेजी, दोनों भाषाओं में बताया गया है।

Seasons Name in English
(ऋतुओं के नाम अंग्रेजी में)
Seasons Name in Hindi
(ऋतुओं के नाम हिंदी में)
Temperature
(तापमान)
English Calendar Time
(अंग्रेजी कैलेंडर समय)
Hindu Calendar Time
(हिन्दू पंचांग समय)
Spring Season (स्प्रिंग सीजन)वसंत ऋतु (Vasant Ritu)20 से 30 डिग्री सेल्सियसचैत्र और वैशाखमार्च और अप्रैल
Summer Season (समर सीजन)ग्रीष्म ऋतु (Grishma Ritu)40 से 50 डिग्री सेल्सियसज्येष्ठ और आषाढ़मई और जून
Rainy/Monsoon Seaosn (रैनी/मानसून सीजन)वर्षा ऋतु (Varsha Ritu)30 से 40 डिग्री सेल्सियसश्रावण और भाद्रपदजुलाई और अगस्त
Autumn Season (ऑटम सीजन)शरद/पतझड़ ऋतु (Sharad/Patjhad Ritu)19 से 25 डिग्री सेल्सियसआश्विन और कर्तिकसितम्बर और अक्टूबर
Pre-Winter Season (प्री-विंटर सीजन)हेमंत ऋतु (Hemant Ritu)15 से 20 डिग्री सेल्सियसमार्गशीर्ष और पौषनवम्बर और दिसम्बर
Winter Season (विंटर सीजन)शीत/शिशिर ऋतु (Sheet/Shishir Ritu)5 से 10 डिग्री सेल्सियसमाघ और फाल्गुनजनवरी और फरवरी

सभी 6 ऋतुओं के बारे में विस्तृत जानकारी (Information Related 6 Seasons in Hindi)

नीचे आपको सभी 6 ऋतुओं के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई है। इसलिए इसे ध्यानपूर्वक पूरा पढ़े।

1. वसंत ऋतु (Spring Season)

Spring Season With Picture
Spring Season With Picture

वसंत ऋतु को अंग्रेजी भाषा में ‘Spring Season’ कहा जाता है। वसंत ऋतु का उपयुक्त समय फरवरी माह के मध्य से अप्रैल माह के मध्य तक रहता है।

हिन्दू पंचांग के अनुसार यह समय चैत्र और वैशाख के मध्य का समय होता है। वसंत ऋतु से पहले शीत ऋतु आती है और वसंत ऋतु के आगमन पर शीत ऋतु का समापन होता है।

वसंत ऋतु का समापन होने पर ग्रीष्म ऋतु का आगमन होता है। वसंत ऋतु को सभी ऋतुओं का राजा कहा जाता है। वसंत ऋतु में मौसम बहुत ही अधिक सुहावना तथा मन को प्रफुल्लित करने वाला होता है।

वसंत ऋतु में प्रमुख पर्व व त्यौहार (Festivals in Spring Season in Hindi)

वसंत ऋतु में प्रमुख पर्व व त्यौहारFestivals in Spring Season
गुडी पडवाGudi Padwa
होलीHoli
रामनवमीRam Navami
हनुमान जयंतीHanuman Jayanti
बैसाखीBaisakhi
परशुराम जयंतीParshuram Jayanti
अक्षय तृतीयाAkshaya Tritiya

2. ग्रीष्म ऋतु (Summer Season)

Summer Season With Picture
Summer Season With Picture

ग्रीष्म ऋतु को अंग्रेजी भाषा में ‘Summer Season’ कहा जाता है। ग्रीष्म ऋतु का उपयुक्त समय अप्रैल माह के मध्य से लेकर जून माह के मध्य तक रहता है।

हिन्दू पंचांग के अनुसार यह समय ज्येष्ठ और आषाढ़ के मध्य का समय होता है। ग्रीष्म ऋतु से पहले वसंत ऋतु आती है तथा ग्रीष्म ऋतु के बाद वर्षा ऋतु का आगमन होता है।

ग्रीष्म ऋतु के समय मौसम बहुत ही अधिक गर्म होता है और दोपहर में गर्म हवाओं से भरी लू चलती है।

इसी वजह से ग्रीष्म ऋतु में विद्यालयों तथा विश्वविद्यालयों की छुट्टी होती है। ग्रीष्म ऋतु के समय रातें छोटी तथा दिन लंबे होते है।

ग्रीष्म ऋतु में प्रमुख पर्व व त्यौहार (Festivals in Summer Season in Hindi)

ग्रीष्म ऋतु में प्रमुख पर्व व त्यौहारFestivals in Summer Season
भगवान बुद्ध जयंतीBhagwan Buddha Jayanti
गंगा दशहराGanga Dassehra

3. वर्षा ऋतु (Rainy/Monsoon Season)

Rainy/Monsoon Season With Picture
Rainy/Monsoon Season With Picture

वर्षा ऋतु को अंग्रेजी भाषा में ‘Rainy/Monsoon Season’ कहा जाता है। वर्षा ऋतु का उपयुक्त समय जून माह के मध्य से लेकर अगस्त माह के मध्य तक रहता है।

हिन्दू पंचांग के अनुसार यह समय श्रावण और भाद्रपद के मध्य का समय होता है। वर्षा ऋतु से पहले ग्रीष्म ऋतु आती है तथा वर्षा ऋतु के बाद शरद/पतझड़ ऋतु का आगमन होता है।

वर्षा ऋतु के आगमन पर गर्मियों का मौसम जा रहा होता है। ग्रीष्म ऋतु से गर्म पड़ी पृथ्वी को शीतल को करने के लिए वर्षा ऋतु का आगमन होता है।

इस ऋतु में हर जगह वर्षा ही वर्षा होती है और चारों तरफ़ हरियाली ही हरियाली फैली होती है। ग्रीष्म ऋतु के कारण सूखे पड़े नदियों और झरनों में पानी फिर से भरने लगता है।

वर्षा ऋतु में प्रमुख पर्व व त्यौहार (Festivals in Rainy/Monsoon Season in Hindi)

वर्षा ऋतु में प्रमुख पर्व व त्यौहारFestivals in Rainy/Monsoon Season
योग दिवसYoga Diwas
संत कबीर की जयंतीSant Kabir Ki Jayanti
जगन्नाथपुरी रथ यात्राJagannath Rath Yatra
गुरु पूर्णिमाGuru Purnima

4. शरद/पतझड़ ऋतु (Autumn Season)

Autumn Season With Picture
Autumn Season With Picture

शरद/पतझड़ ऋतु को अंग्रेजी भाषा में ‘Autumn Season’ कहा जाता है। शरद/पतझड़ ऋतु का उपयुक्त समय अगस्त माह के मध्य से लेकर अक्टूबर माह के मध्य तक रहता है।

हिन्दू पंचांग के अनुसार यह समय आश्विन और कार्तिक के मध्य का समय होता है। शरद/पतझड़ ऋतु से पहले वर्षा ऋतु आती है तथा शरद/पतझड़ ऋतु के बाद हेमंत ऋतु का आगमन होता है।

शरद/पतझड़ ऋतु में चारों तरफ़ पतझड़ का मौसम होता है। इस ऋतु में सभी पेड़ों के पुराने पत्ते टूट कर झड़ते है।

शरद/पतझड़ ऋतु में पर्व व त्यौहार (Festivals in Autumn Season in Hindi)

शरद/पतझड़ ऋतु में प्रमुख पर्व व त्यौहारFestivals in Autumn Season
रक्षा बंधनRaksha Bandhan
जन्माष्टमीJanmashtami
शरद नवरात्रि प्रारम्भSharad Navratri Prarambh
विजयादशमीVijayadashami

5. हेमंत ऋतु (Pre-Winter Season)

Pre-Winter Season With Picture
Pre-Winter Season With Picture

हेमन्त ऋतु को अंग्रेजी भाषा में ‘Pre-Winter Season’ कहा जाता है। हेमंत ऋतु का उपयुक्त समय अक्टूबर माह के मध्य से लेकर दिसम्बर माह के मध्य तक रहता है।

हिन्दू पंचांग के अनुसार यह समय मार्गशीर्ष और पौष के मध्य का समय होता है। हेमंत ऋतु से पहले शरद/पतझड़ ऋतु आती है तथा हेमंत ऋतु के बाद शिशिर/शीत ऋतु का आगमन होता है।

हेमंत ऋतु में हल्की-हल्की सर्दी का मौसम होने लगता है। इस ऋतु में दशहरा और दिवाली जैसे बड़े-बड़े त्यौहार आते है।

हेमंत ऋतु में पर्व व त्यौहार (Festivals in Pre-Winter Season in Hindi)

हेमंत ऋतु में प्रमुख पर्व व त्यौहारFestivals in Pre-Winter Season
अहोई अष्टमीAhoi Ashtami
नरक चतुर्दशीNarak Chaturdashi
महालक्ष्मी पूजन (दिवाली)Mahalakshmi Pujan (Diwali)
गोवर्धन पूजाGovardhan Puja
भाईदूजBhaidooj
गोपाष्टमीGopashtami
तुलसी विवाहTulsi Vivah
गुरु नानक जयंतीGuru Nanak Jayanti

6. शीत/शिशिर ऋतु (Winter Season)

Winter Season With Picture
Winter Season With Picture

शीत/शिशिर ऋतु को अंग्रेजी भाषा में ‘Winter Season’ कहा जाता है। शीत/शिशिर ऋतु का उपयुक्त समय दिसम्बर माह के मध्य से लेकर फरवरी माह के मध्य तक रहता है।

हिन्दू पंचांग के अनुसार यह समय माघ और फाल्गुन के मध्य का समय होता है। शीत/शिशिर ऋतु से पहले हेमंत ऋतु आती है तथा शीत/शिशिर ऋतु के बाद वसंत ऋतु का आगमन होता है।

इस ऋतु में चारों तरफ़ बहुत ही कड़ाके की भयंकर सर्दी पड़ती है। इसलिए, सर्दी से बचने के लिए प्रत्येक घरों में इस समय रजाई और कम्बल सहित गर्म कपड़ो का उपयोग किया जाता है।

शीत/शिशिर ऋतु में रात के समय में हमेशा सिगड़ी में लोग अपने हाथों को गर्म करते है।

शीत/शिशिर ऋतु में पर्व व त्यौहार (Festivals in Winter Season in Hindi)

शीत/शिशिर ऋतु में प्रमुख पर्व व त्यौहारFestivals in Winter Season
लोहड़ीLohadi
गुरु गोविन्द सिंह जयंतीGuru Govind Singh Jayanti
वसंत पंचमीVasant Panchami

FAQ’s About Seasons Name in Hindi

यह भी पढ़े:-

OKR Full FormNRC Full Form
UPS Full FormXML Full Form
RIP Full FormCAA Full Form
IAS Full FormMBBS Full Form
NASA Full FormGDP Full Form
Seasons Name in Hindi6 Seasons Name in Hindi
Six Seasons Name in HindiSeasons Name in Hindi & English
Four Seasons Name in Hindi4 Seasons Name in Hindi
Five Seasons Name in Hindi5 Seasons Name in Hindi

निष्कर्ष

अंत में आशा करता हूँ कि यह Seasons Name in Hindi लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान कि गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस Seasons Name in Hindi लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रो व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें।

इसके अतिरिक्त यदि आपके मन में Seasons Name in Hindi लेख से संबंधित कोई प्रश्न उठ रहा है? तो आप कमेंट के माध्यम से हमसे पूछ सकते हैं।

हम आपके द्वारा पूछे गए सभी के प्रश्नों का उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे। भविष्य में भी हम आपके लिए ऐसे ही रोचक व उपयोगी लेख लाते रहेंगे।

अतः आप भविष्य में प्रकाशित होने वाले सभी लेखों कि ताज़ा जानकारी के लिए कृपया हमारे फेसबुक पेज और वेबसाइट को Subscribe कर ले।

ताकि आपको भविष्य में प्रकाशित होने वाले लेखों की ताज़ा जानकारी समय पर प्राप्त हो जाये।

धन्यवाद…

5/5 - (2 votes)

Leave a Comment