Republic Day Essay In Hindi : 26 जनवरी/गणतंत्र दिवस पर निबंध

26 जनवरी और गणतंत्र दिवस पर निबंध : Republic Day Essay in Hindi

72th Republic Day Essay in Hindi : 26 जनवरी और गणतंत्र दिवस पर शायरी:- 26 जनवरी 1950 का दिन भारतीय इतिहास में सुनहरे पन्नों पर लिखा गया दिन है।

जी हाँ, यही वह दिन था, जिस दिन भारत का संविधान पूरे देश में लागू हुआ था। आपको जानकारी के लिए बता दें कि भारत का संविधान पूर्ण रूप से 26 नवंबर 1949 के दिन बनकर तैयार हुआ था।

उसके बाद 26 जनवरी 1950 के दिन इस पूरे भारत में लागू कर दिया गया। तब से लेकर वर्तमान तक इस प्रत्येक वर्ष दिन का जश्न मनाया जाता है।

26 जनवरी के दिन पूरे भारत के विद्यालयों और महाविद्यालयों में अनेक प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। जिसमें विद्यार्थी ख़ूब बढ़-चढ़कर इसमें भाग लेते है।

जहाँ पर विद्यार्थी गणतंत्र दिवस पर कुछ न कुछ पेशकश करते है। जिनमें गणतंत्र दिवस पर शायरी, गणतंत्र दिवस पर निबंध, गणतंत्र दिवस पर भाषण, गणतंत्र दिवस पर नारे, गणतंत्र दिवस पर 10 वाक्य आदि शामिल हो सकते है।

अगर आप भी गणतंत्र दिवस पर निबंध अपने विद्यालय में पेश करना चाहते है और आपको पता नहीं है कि आप गणतंत्र दिवस पर निबंध कैसे लिखेंगे और पेश करेंगे?

तो आपको घबराने और चिंता करने वाली कोई बात नहीं है। जी हाँ, आज के इस लेख में हम आपके साथ कक्षा 1, कक्षा 2, कक्षा 3, कक्षा 4, कक्षा 5, कक्षा 6, कक्षा 7, कक्षा 8, कक्षा 9, कक्षा 10, कक्षा 11, और कक्षा 12 के विद्यार्थियों के लिए गणतंत्र दिवस पर निबंध साझा किये है।

अगर आप 26 जनवरी पर निबंध को प्राप्त करना चाहते है तो आप इस लेख को शुरूआत से अंत तक अवश्य पढ़े। हम उम्मीद करते है कि यह लेख आपके लिए अत्यंत लाभदायक और उपयोगी साबित होगा।

अगर इस लेख से आपकी किसी भी प्रकार की मदद होगी तो इस लेख को अपने मित्रों और परिवार के सदस्यों के साथ अवश्य साझा कीजिए। तो चलिए बिना देरी के शुरू करते है:- Republic Day Essay in Hindi

गणतंत्र दिवस पर निबंध 200 शब्दों में : Republic Day Essay in Hindi [200 Words]

प्रस्तावना:- गणतंत्र दिवस का यह पर्व प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी के दिन मनाया जाता है। सर्वप्रथम गणतंत्र दिवस का यह पर्व 26 जनवरी 1950 को मनाया गया था।

तब से लेकर वर्तमान तक यह पर्व प्रतिवर्ष 26 जनवरी के दिन मनाया जाता है। गणतंत्र दिवस का यह दिन भारतीय इतिहास के लिए अत्यंत ख़ुशी और जश्न का दिन है।

क्योंकि, इसी दिन भारत का संविधान सम्पूर्ण भारत में लागू हुआ था और भारत एक गणतांत्रिक राष्ट्र घोषित हुआ था। इसलिए भारतीयों के लिए यह दिन किसी भी पर्व व त्यौहार से कम नहीं है।

गणतंत्र दिवस का इतिहास:- ब्रिटिश शासन से आजादी प्राप्त करने के पश्चात् 28 अगस्त 1947 की एक मीटिंग में एक ड्राफ्टिंग कमेटी को भारत के स्थाई संविधान का प्रारूप तैयार करने को कहा गया।

4 नवम्बर 1947 को डॉ. भीमराव आंबेडकर की अध्यक्षता में भारतीय संविधान के प्रारूप को सदन में रखा गया।

यह प्रारूप सदन में पास कर लिया गया। उसके बाद करीब 2 वर्ष, 11 माह और 18 दिन के समयकाल में भारत का संविधान पूर्ण रूप से बनकर तैयार हुआ।

संविधान के बनने के पश्चात् 26 जनवरी 1950 के दिन इसे सम्पूर्ण भारत देश में लागू कर दिया गया। जिससे, भारत एक स्वतन्त्र और पूर्ण गणराज्य देश बन गया था।

उपसंहार:- गणतंत्र दिवस के अवसर पर सम्पूर्ण भारत में अवकाश का दिन रखा जाता है। इस महान दिन को लोग अपने-अपने तरीके से मनाते है।

जैसे:- समाचार पत्र पढ़कर विद्यालय में भाषण के द्वारा या भारत की स्वतंत्रता से सम्बंधित किसी भी प्रकार की प्रतियोगिता में भाग लेकर आदि।

26 जनवरी के दिन भारत की राजधानी नई दिल्ली के राजपथ पर एक बहुत बड़े समारोह का आयोजन किया जाता है।

जहाँ पर भारत के मौजूदा राष्ट्रपति लाल किले पर भारतीय तिरंगे का ध्वजारोहण करते है और उसके बाद राष्ट्रगान गया जाता है।

इन सबके पश्चात् भारत की तीनों सेनाओं के द्वारा भिन्न-भिन्न प्रकार के करतब किये जाते है.

गणतंत्र दिवस पर निबंध 300 शब्दों में : Republic Day Essay in Hindi [300 Words]

Speech on Republic Day in Hindi for Students & Childrens [250 Words]
Essay on Republic Day in Hindi for Students & Childrens [300 Words]

प्रस्तावना:- प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी के दिन को सम्पूर्ण भारत देश गणतंत्र दिवस के रूप में मनाता है।

26 जनवरी के दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाने का मुख्य कारण यह है कि 26 जनवरी 1950 के दिन ही भारत का अपना संविधान लागू हुआ था।

तब से लेकर अभी तक भारत देश दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाता है। इस दिन पूरे भारत में राष्ट्रीय अवकाश रहता है। आज ही के दिन भारत देश पूर्ण से लोकतान्त्रिक गणराज्य देश बना था।

गणतंत्र दिवस पर समारोह का भव्य आयोजन:- गणतंत्र दिवस के इस महान अवसर पर भारत की राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली के राजपथ पर एक भव्य समारोह का आयोजन किया जाता है।

जहाँ पर भारत के राष्ट्रपति लाल किले पर भारतीय तिरंगे का ध्वजारोहण करते है। उसके बाद भारत की तीनों सेनाएं (थल सेना, नौ सेना, वायु सेना) के द्वारा विभिन्न प्रकार के करतब दिखाए जाते है। इसके अलावा सेनाएं परेड में भी भाग लेती है।

भारतीय सेनाओं की यह परेड दिल्ली के विजय चौक से शुरू होकर इंडिया गेट पर समाप्त होती है। इसके साथ ही इन तीनों सेनाओं के द्वारा भारत के राष्ट्रपति को सलामी दी जाती है।

इसके अतिरिक्त भारतीय सेना द्वारा नए-नए अत्याधुनिक हथियारों और टैंको का प्रदर्शन भी किया जाता है, जो कि भारत देश की राष्ट्रीय शक्ति के प्रतीक है।

भारतीय सेनाओं की परेड के पश्चात् देश के सभी राज्यों द्वारा झाँकियो के माध्यम से अपनी-अपनी परंपरा और संस्कृति की प्रस्तुति की जाती है।

इसके बाद ही भारतीय वायु सेना द्वारा राष्ट्रीय तिरंगें के तीनों रंगों (केसरिया, सफ़ेद और हरा) की तरह आसमान में फूलों की बारिश की जाती है।

उपसंहार:- गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत के सभी विद्यालयों और महाविद्यालयों में भी विद्यार्थी परेड खेल नाटक, भाषण, नृत्य, गायन, निबंध लेखन सामाजिक अभियान में मदद के द्वारा स्वतंत्रता सेनानियों के किरदार अदा कर बहुत सी क्रियाओं के द्वारा इस 26 जनवरी के उत्सव को मनाया जाता है।

इस दिवस के अवसर पर हर भारतीय को अपने भारत देश को शांतिपूर्ण और विकसित राष्ट्र बनाने की प्रतिज्ञा लेनी चाहिए।

अंत में, कार्यक्रम समाप्त होने के पश्चात् सभी विद्यार्थी मिठाई और नमकीन लेकर ख़ुशी और जोश के साथ अपने घर के लिए रवाना हो जाते है.

गणतंत्र दिवस पर निबंध 500 शब्दों में : Republic Day Essay in Hindi [500 Words]

Long Speech on Republic Day in Hindi For Teachers & Students [350 Words]
Long Essay on Republic Day in Hindi For Teachers & Students [500 Words]

प्रस्तावना:- भारत देश में प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी के दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में भारत के लोगों द्वारा बेहद ख़ुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है।

संप्रभु लोकतान्त्रिक गणराज्य होने के महत्व को सम्मान देने के लिए इस दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है।

26 जनवरी 1950 के दिन जब भारत देश का स्वयं का संविधान लागू हुआ था, तब गणतंत्र दिवस सबसे पहली बार मनाया गया था।

तब से लेकर अभी तक यह प्रतिवर्ष मनाया जाता है। इस दिन को भारत सरकार द्वारा पूरे देश में राजपत्रित अवकाश के रूप में घोषित किया गया है।

गणतंत्र दिवस के पर्व को भारत वर्ष में विद्यार्थियों द्वारा विद्यालयों, महाविद्यालयों और शिक्षण संस्थानों में मनाया जाता है।

26 जनवरी के अवसर पर भारतीय सेना की परेड:- भारत सरकार द्वारा प्रतिवर्ष गणतंत्र दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली के राजपथ पर एक भाव समारोह का आयोजन करती है।

जिसमें इंडिया गेट पर भारतीय सेनाओं द्वारा एक भव्य परेड का आयोजन किया जाता है। गणतंत्र दिवस के दिन जल्दी सुबह ही लोग इस कार्यक्रम को देखने के लिए दिल्ली के राजपथ पर इकठ्ठा होने लगते है।

जहाँ पर भारत की तीनों सेनाएं (थल सेना, नौ सेना, वायु सेना) अपनी परेड विजय चौक से शुरू करती है।

भारतीय सेनाओं द्वारा की जाने वाली इस परेड में विभिन्न प्रकार के अस्त्रों-शस्त्रों का प्रदर्शन भी किया जाता है।

आर्मी बैंड, एन.सी.सी कैडेट्स और पुलिस बल भी विभिन्न धुनों के माध्यम से अपनी कला का प्रदर्शन करते है।

देश के विभिन्न राज्यों में भी इस दिवस को राज्यपाल की मौजूदगी में बेहद शानदार तरीके से मनाया जाता है।

राष्ट्रीय उत्सव:- भारत में गणतंत्र दिवस का दिन राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाता है। इस महान दिवस को लोग अपने-अपने तरीके से मनाते है।

गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत के सभी विद्यालयों और महाविद्यालयों में भी विद्यार्थी परेड खेल नाटक, भाषण, नृत्य, गायन, निबंध लेखन सामाजिक अभियान में मदद के द्वारा स्वतंत्रता सेनानियों के किरदार अदा कर बहुत सी क्रियाओं के द्वारा इस 26 जनवरी के उत्सव को मनाया जाता है।

इस दिवस के अवसर पर हर भारतीय को अपने भारत देश को शांतिपूर्ण और विकसित राष्ट्र बनाने की प्रतिज्ञा लेनी चाहिए।

अंत में, कार्यक्रम समाप्त होने के पश्चात् सभी विद्यार्थी मिठाई और नमकीन लेकर ख़ुशी और जोश के साथ अपने घर के लिए रवाना हो जाते है.

उपसंहार (भारतीय संस्कृति की झलक):- भारत में स्वतंत्रता के पश्चात् “विविधता में एकता” के अस्तित्व को दिखाने के लिए देश के विभिन्न राज्य भी इस ख़ास झांकियों के माध्यम से अपनी संस्कृति, परंपरा और प्रगति को दर्शाते है।

लोग अपने-अपने राज्यों लोकगीत प्रस्तुत करते है। इसके साथ ही नृत्य, गायन और वाद्ययंत्रों से धुन बजाई जाती है।

कार्यक्रम की समाप्ति पर तीनों रंगों (केसरिया, सफ़ेद, और हरा रंग) के फूलों की आसमान में वायु सेना द्वारा वर्षा की जाती है।

जो कि भारतीय तिरंगें को दर्शाता है। शांति को दर्शाने के लिए कुछ रंग-बिरंगे गुब्बारों को भी आसमान में छोड़ा जाता है।

FAQ’s About Republic Day Essay in Hindi

निष्कर्ष

अंत में आशा करता हूँ कि यह Republic Day Essay in Hindi लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान कि गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस Republic Day Essay in Hindi लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रो व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें।

इसके अतिरिक्त यदि आपके मन में Republic Day Essay in Hindi लेख से संबंधित कोई प्रश्न उठ रहा है? तो आप कमेंट के माध्यम से हमसे पूछ सकते हैं।

हम आपके द्वारा पूछे गए सभी के प्रश्नों का उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे। भविष्य में भी हम आपके लिए ऐसे ही रोचक व उपयोगी लेख लाते रहेंगे।

अतः आप भविष्य में प्रकाशित होने वाले सभी लेखों कि ताज़ा जानकारी के लिए कृपया हमारे फेसबुक पेज और वेबसाइट को Subscribe कर ले।

ताकि आपको भविष्य में प्रकाशित होने वाले लेखों की ताज़ा जानकारी समय पर प्राप्त हो जाये।

धन्यवाद…

Search Queries:- Republic Day Essay in Hindi, 72th Republic Day Essay in Hindi in 500 Words, Republic Day Essay in Hindi and English, 26 January/Republic Day Essay in Hindi, Best Republic Day Essay in Hindi in 200 Words, Republic Day Essay in Hindi in 250 Words 2021, Republic Day Essay in Hindi in 300 Words, Republic Day Essay in Hindi in 350 Words, Republic Day Essay in Hindi in 400 Words [2021], Republic Day Essay in Hindi in 600 Words, Republic Day Essay in Hindi in 1000 Words, Republic Day Essay in Hindi in 700 Words, Republic Day Essay in Hindi in 800 Words

Leave a Comment