NASA क्या है? और इसकी स्थापना कब हुई?

NASA Full Form in Hindi:- आज के समय में इतना अधिक तकनीकी विकास हो चुका है कि अब हमें पृथ्वी के साथ-साथ बाहरी दुनिया अर्थात अंतरिक्ष और ब्रह्माण्ड की जानकारी भी आसानी से प्राप्त हो जाती है।

इसका सम्पूर्ण श्रेय विभिन्न प्रकार के अंतरिक्ष अनुसंधान संगठनों को जाता है। प्रत्येक देश के पास स्वयं का एक अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन मौजूद है। जैसे कि भारत देश में Indian Space Research Organization (ISRO) है।

ठीक इसी प्रकार सभी देशों में एक ऐसी संस्था होती है, जो कि अंतरिक्ष और ब्रह्माण्ड में खोज करती है और वहां से जानकारी प्राप्त करती है। आज के इस लेख में हम आपको NASA Full Form in Hindi के बारे में बताने जा रहे है।

NASA क्या है?, NASA किस देश की संस्था है?, NASA का पूरा नाम क्या है? आदि विषयों के बारे में भी आपको विस्तारपूर्वक जानकारी इस लेख में प्राप्त होगी।

अतः आपसे अनुरोध है कि इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़े। ताकि आपको NASA के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त हो। तो चलिए शुरू करते है:-

NASA क्या है? (What is NASA in Hindi?)

NASA एक अमिरीकी अंतरिक्ष अनुसंधान संस्था है, जो कि ब्रह्माण्ड और अंतरिक्ष से जुड़े तथ्यों पर कार्य करती है। NASA Ka Full Form National Aeronautics And Space Administration” है।

NASA Ka Full Form in Hindi राष्ट्रीय वैमानिकी एवं अन्तरिक्ष प्रशासन” है। NASA के पास बहुत से उपग्रह (Satellites) है।

जिनके द्वारा NASA अंतरिक्ष में होने वाली गतिविधियों पर अनुसंधान (Research) करती है। NASA का सबसे मुख्य कार्य अंतरिक्ष कार्यक्रमों और वैमानिकी (Aeronautics) के बारे में अनुसंधान (Research) करना है।

NASA Full Form in Hindi, English, Marathi, Gujarati, Punjabi, Bengali, Urdu, Odia (Oriya) Tamil, Telugu, Kannada & Malayalam

NASA FULL FORM IN ENGLISH
NATIONAL AERONAUTICS AND SPACE ADMINISTRATION
NASA FULL FORM IN HINDI
राष्ट्रीय वैमानिकी एवं अन्तरिक्ष प्रशासन
NASA FULL FORM IN MARATHI
नॅशनल एरोनॉटिक्स ऍण्ड स्पेस प्रशासन
NASA FULL FORM IN GUJARATI
નેશનલ એરોનોટિક્સ એન્ડ સ્પેસ એડમિનિસ્ટ્રેશન
NASA FULL FORM IN TAMIL
தேசிய விமானவியல் மற்றும் விண்வெளி நிர்வாகம்
NASA FULL FORM IN TELUGU
నేషనల్ ఏరోనాటిక్స్ అండ్ స్పేస్ అడ్మినిస్ట్రేషన్
NASA FULL FORM IN KANNADA
ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಏರೋನಾಟಿಕ್ಸ್ ಮತ್ತು ಬಾಹ್ಯಾಕಾಶ ಆಡಳಿತ
NASA FULL FORM IN MALAYALAM
നാഷണൽ എയറോനോട്ടിക്സ് ആൻഡ് സ്പേസ് അഡ്മിനിസ്ട്രേഷൻ
NASA FULL FORM IN PUNJABI
ਰਾਸ਼ਟਰੀ ਏਅਰੋਨੋਟਿਕਸ ਅਤੇ ਪੁਲਾੜ ਪ੍ਰਸ਼ਾਸਨ
NASA FULL FORM IN BENGALI
ন্যাশনাল এরোনটিক্স এবং স্পেস অ্যাডমিনিস্ট্রেশন
NASA FULL FORM IN ODIA (ORIYA)
ଜାତୀୟ ଏରୋନେଟିକ୍ସ ଏବଂ ସ୍ପେସ୍ ଆଡମିନିଷ୍ଟ୍ରେସନ୍ |
NASA FULL FORM IN URDU
قومی ہوا بازی اور خلائی انتظامیہ

NASA की स्थापना कब हुई थी?

NASA, सम्पूर्ण विश्व की सबसे बड़ी अंतरिक्ष अनुसंधान संस्था है। NASA की स्थापना 1 अक्टूबर 1958 को अमेरिका के राष्ट्रपति Eisenhower के द्वारा किया गया था।

स्थापना के बाद से इसने बहुत से अमेरिकी अंतरिक्ष अन्वेषणों का नेतृत्व किया है। जिनमें सबसे प्रमुख अपोलो चन्द्रमा लैंडिंग मिशन है। इसके अलावा Space Shuttle भी प्रमुख अन्वेषण है।

अमेरिका जब सोवियत संघ से अंतरिक्ष के क्षेत्र में पिछड़ रहा था, उस समय NASA ने अपोलो चन्द्रमा लेंडिंग मिशन को अंजाम दिया।

उस वक़्त अमेरिका के राष्ट्रपति केन्नेडी ने मून लैंडिंग के मिशन द्वारा बता दिया कि अमेरिका किसी देश से किसी भी क्षेत्र पीछे नहीं है।

इस मिशन के लिए NASA ने लगभग 20 बिलियन डॉलर खर्च किया था। जो कि 1960 के दशक के सबसे महंगे कार्य्रकमों में से एक था। इस मिशन का मुख्य लक्ष्य मनुष्य के क़दमों को चाँद पर उतारना था।

नासा का इतिहास (NASA History in Hindi)

NASA की स्थापना 1 अक्टूबर 1958 को अमेरिका के राष्ट्रपति Eisenhower के द्वारा किया गया था। NASA का मुख्यालय (Headquarter) अमेरिका के वाशिंगटन D.C. में स्थित है।

इस संस्था का निर्माण राष्ट्रीय वैमानिकी और अंतरिक्ष अधिनियम (National Aeronautics and Space Act) के द्वारा किया गया था। वर्तमान में संयुक्त राज्य अमेरिका में NASA के कुल 10 केंद्र है।

जिनमें से 7 केद्रों में अनुसंधान व परिक्षण किया जाता है। NASA में काम करने वाले कर्मचारियों की संख्या 18 हज़ार से भी अधिक है।

जिनमें इंजीनियर और वैज्ञानिकों की संख्या अधिक है। इनके अतिरिक्त NASA में सचिव, लेखक, वकील और शिक्षक आदि भी कार्य करते है।

NASA के कुल 10 मिशन

जैसा कि आप सभी जानते है कि NASA एक बहुत ही प्रसिद्द और विशाल संस्था है। NASA को इस मुक़ाम पर पहुँचने के लिए बहुत अधिक कड़ी मेहनत लगी है।

देखा जाए तो NASA की इस सफ़लता के पीछे सबसे बड़ी वजह ही उनकी लगन और मेहनत है। NASA ने अपने इतिहास में बहुत से सफ़ल मिशन को अंजाम दिया है।

जिसका लाभ मानव को वर्तमान में प्राप्त हो रहा है। NASA के द्वारा पूरे किये सभी मिशनों के बारे में जानकारी आपको नीचे विस्तारपूर्वक दी गई है।

1.Voyager

NASA के इस Voyager 1 और Voyager 2 मिशन के द्वारा NASA ने शनि ग्रह और बृहस्पति ग्रह के बारे में बहुत महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त की।

जिसके आधार पर NASA ने बहुत से सफ़ल अनुसंधान और परिक्षण किये। इस मिशन के द्वारा प्राप्त की गई जानकारी में सबसे महत्वपूर्ण जानकारी यह थी कि बृहस्पति ग्रह के चारों तरफ़ छल्लें मौजूद है।

इसके साथ-साथ ही इस मिशन के द्वारा चन्द्रमा में मौजूद Volacanos की भी जानकारी NASA ने प्राप्त की है। Voyager मिशन के द्वारा 10 नए चंद्रमाओं की भी खोज की गई थी, जो कि अपने आप में एक इतिहास है।

Neptune ग्रह का वजन उसके अनुमान से कम था, इस बात की जानकारी भी इसी मिशन के द्वारा प्राप्त हुई। दोनों Voyager मिशन के यानों की क्षमता इतनी है कि ये 2025 तक रेडियो सिग्नल भेज सकते है।

मानव द्वारा निर्मित यह अंतरिक्षयान सौर मंडल के किनारे तक पहुँच चुका है और Intersteller स्पेस में भी प्रवेश कर चुका है।

Voyager 2 मानव निर्मित एक ऐसा अंतरिक्ष यान है जो कि पृथ्वी से सबसे अधिकतम दूरी गया है। यह दूरी पृथ्वी और सूर्य के बीच की दूरी से 100 गुना अधिक है।

2. Pioneer

Pioneer 10 और Pioneer 11 resp. को सन 1972 और 1973 में launch किया गया था। ये दोनों पहले ऐसे यान थे जो कि सौरमंडल के सबसे बड़े फोटोजेनिक गैस निर्मित ग्रहों बृहस्पति और शनि पर गए थे।

Pioneer 10 पहला ऐसा अंतरिक्ष यान था, जिसने सौरमंडल के Asteroid Belt (मंगल ग्रह और बृहस्पति ग्रह के बीच का वह क्षेत्र, जिसमें चट्टानें परिक्रमा करती है) तक पहुँचने में सफलता प्राप्त की।

करीब डेढ़ साल बाद ही इस अंतरिक्षयान ने बृहस्पति ग्रह तक पहुंचकर वहां के Great Red Spot की अद्भुत तस्वीरें NASA को भेजी।

उसके लगभग एक साल बाद ही यह अंतरिक्षयान बृहस्पति ग्रह से उड़ान भर कर शनि ग्रह पर पहुँच गया।

जहाँ पर इसने ग्रह के चारों तरफ़ अज्ञात छोटे चंद्रमाओं के जोड़ो की खोज की। इसके साथ-साथ एक विशाल Ring की भी खोज की.

3. Chandra

Chandra X-ray Observatory सन 1999 के बाद से सबसे अधिक दूरी के खगोलीय घटनाओं की जांच कर रहा है। हमारी पृथ्वी का वातावरण ऐसा है, जो अधिकतर X-Rays को ब्लॉक कर देता है।

जिसकी वजह से खगोलशास्त्री इसे अधिक ऊर्जा के कारण ब्रह्माण्ड को ठीक से देख नहीं पाते थे। यह अंतरिक्षयान किसी भी X-Ray टेलिस्कोप की तुलना में उससे 100 गुना अधिक शक्तिशाली है।

4. Viking

सन 1976 में जब नासा की Viking 1 Probe ने मंगल ग्रह पर उतरा। वह पहली बार था, जब किसी मानव निर्मित अंतरिक्षयान ने इस लाल ग्रह की सतह पर Soft Landing की।

इससे पहले सोवियत संघ रूस के द्वारा भेजे गए Soviat 2 और 3 भी मंगल ग्रह की सतह पर उतरे थे, लेकिन Landing में असफल हो गए थे।

Viking 1 Lander ने मंगल ग्रह पर 6 साल और 116 दिन का लम्बा समय बिताने का कीर्तिमान भी स्थापित किया। इस अंतरिक्षयान ने मंगल ग्रह की सतह की रंगीन तस्वीरें भी NASA को भेजी।

5. WMAP

WMAP का पूरा नाम “Wilkinson Microwave Anisotropy Probe” है। जिसे कि सन 2001 में launch किया गया था। यह मिशन इतना अधिक प्रसिद्द तो नहीं था।

लेकिन यह बहुत ही शुद्धता (Accuracy) के साथ Cosmic Microwave Background Radiation में होने वाले उतार-चढ़ाव को मैप कर के Big-Bang से बचे विकिरण के तापमान को मापता है।

इस अंतरिक्ष यान ने Universe की शुरुआत के बारे में Cosmological Theories के क्षेत्र में एक छलांग आगे लगा दी।

इस अंतरिक्ष यान ने जो भी जानकारी NASA को भेजी है, उसके द्वारा ब्रह्माण्ड की उम्र का एक सटीक अनुमान लगा दिया है।

6. Hubble

NASA के द्वारा भेजे गए सभी अंतरिक्ष यानों में से हबल अंतरिक्ष यान सबसे अधिक प्रसिद्ध है। इस यान को पूरी दुनिया में लोग सभी जानते हैं।

यह अंतरिक्षयान जो तस्वीरें NASA को भेजता है, उससे लोगों का नज़रिया काफ़ी हद तक बदल गया है। यह एक ऐसा उपकरण है जो कि सितारों, ग्रहों,और आकाशगंगाओं के भेदों को खोलता है।

7. Apollo

Apollo मिशन, अभी तक का NASA का सबसे बड़ा और महान अंतरिक्ष मिशन है। इस मिशन में NASA ने Apollo अंतरिक्षयान के द्वारा मानव को चाँद पर भेजा और इसी के साथ इस मिशन ने इतिहास रच दिया।

यह पहला मौका था जब पृथ्वी के बाहर किसी अन्य ग्रह पर मनुष्य के कदम पड़े। इस अंतरिक्षयान में जो पहला मानव चन्द्रमा पर गया था, उनका नाम नील आर्मस्ट्रांग है।

वह चाँद पर कदम रखने वाले पहले इंसान बने। इस मिशन के द्वारा मानव को अंतरिक्ष में भेजकर फिर से पृथ्वी पर वापस लाया गया।

8. Spitzer

यह एक Spacecraft है, जो Infrared किरणों की मदद से आसमान के रहस्य से पर्दा उठाया। इंफ्रारेड में सामान्य रौशनी की तुलना में अधिक Wavelength होती है।

इस अंतरिक्षयान ने आकाशगंगाओं, सितारों और Nebulae की तस्वीरों की गुणवत्ता को और अधिक अच्छा बना दिया।

Spitzer को सन 2005 में launch किया गया था और यह एक्सट्रासोलर ग्रहों के प्रकाश का पता लगाने वाला पहला टेलिस्कोप बना।

9. Spirit and Opportunity

NASA ने यह मिशन यह सोच कर शुरू किया गया था कि यह मात्र 90 दिनों में ही सफलतापूर्वक समाप्त हो जायेगा। लेकिन 90 दिनों का समय तो काफ़ी पहले ही गुजर गया।

जबकि यह ग्रह 5 वर्षों के बाद भी मंगल ग्रह पर आज भी घूमता फिर रहा है। ये दोनों जुड़वाँ रोवर हैं, जिन्हे सन 2004 के मिशन के लैंडिंग स्थान के विपरीत स्थान पर उतारा गया था।

तब से वो मंगल ग्रह के क्रेटर और पहाड़ो में घूम रहे हैं। इस मिशन की खोज से वैज्ञानिको ने पाया है कि मंगल ग्रह पर तरल प्रदार्थ उपस्थित है।

10. Cassini-Huygens

NASA और ESA (यूरोपीय स्पेस एसोसिएशन) ने मिलकर इस मिशन को शुरू किया। यह अंतरिक्षयान सन 2004 में अपने गंतव्य स्थान शनि ग्रह पर पहुंचा।

उस समय से वह उसकी कक्षा में घूम रहा है और एक के बाद एक ग्रहों, चंद्रमाओं और वहां के मौसम की अद्भुत तस्वीरों को भेज रहा है।

इस यान से Hugyens यान अलग होकर Titan ग्रह पर पहुंचा और वहां के ज़मीन पर सन 2005 में उतरा।

इससे पहले के अंतरिक्षयानों ने शनि ग्रह का सिर्फ दौरा किया। लेकिन Cassini पहला ऐसा अंतरिक्षयान बना, जो कि शनि ग्रह की कक्षा में पहुंचा और वहां के अनेक पहलुओं का अध्ययन किया।

NASA के अन्य पूर्ण नाम (Other NASA Full Forms)

NASA FULL FORMCATEGORY
National Aeronautics and Space AdministrationGovernmental >> Departments & Agencies
North American Saxophone AllianceAssociations & Organizations >> Arts Associations
National Association of Students of ArchitectureAssociations & Organizations >> Educational Organizations

Frequently Asked Questions (FAQs) About NASA

  1. What is the Full Form of NASA and ISRO?

    Nasa Full Form – National Aeronautics and Space Administration
    ISRO Full Form – Indian Space Research Organization

  2. Who is the CEO of NASA?

    Jim Bridenstine

  3. What is the Work of NASA?

    NASA अंतरिक्ष में होने वाली गतिविधियों पर अनुसंधान (Research) करती है। NASA का सबसे मुख्य कार्य अंतरिक्ष कार्यक्रमों और वैमानिकी (Aeronautics) के बारे में अनुसंधान (Research) करना है।

  4. What is the NASA Full Form in English?

    National Aeronautics and Space Administration

  5. What is the NASA Full Form in Hindi?

    राष्ट्रीय वैमानिकी एवं अन्तरिक्ष प्रशासन

  6. What is the NASA Full Form in Marathi?

    नॅशनल एरोनॉटिक्स ऍण्ड स्पेस प्रशासन

  7. What is the NASA Full Form in Gujarati?

    નેશનલ એરોનોટિક્સ એન્ડ સ્પેસ એડમિનિસ્ટ્રેશન

  8. What is the NASA Full Form in Bengali?

    ন্যাশনাল এরোনটিক্স এবং স্পেস অ্যাডমিনিস্ট্রেশন

  9. What is the NASA Full Form in Punjabi?

    ਰਾਸ਼ਟਰੀ ਏਅਰੋਨੋਟਿਕਸ ਅਤੇ ਪੁਲਾੜ ਪ੍ਰਸ਼ਾਸਨ

  10. What is the NASA Full Form in Odia (Oriya)?

    ଜାତୀୟ ଏରୋନେଟିକ୍ସ ଏବଂ ସ୍ପେସ୍ ଆଡମିନିଷ୍ଟ୍ରେସନ୍ |

  11. What is the NASA Full Form in Tamil?

    தேசிய விமானவியல் மற்றும் விண்வெளி நிர்வாகம்

  12. What is the NASA Full Form in Telugu?

    నేషనల్ ఏరోనాటిక్స్ అండ్ స్పేస్ అడ్మినిస్ట్రేషన్

  13. What is the NASA Full Form in Kannada?

    ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಏರೋನಾಟಿಕ್ಸ್ ಮತ್ತು ಬಾಹ್ಯಾಕಾಶ ಆಡಳಿತ

  14. What is the NASA Full Form in Malayalam?

    നാഷണൽ എയറോനോട്ടിക്സ് ആൻഡ് സ്പേസ് അഡ്മിനിസ്ട്രേഷൻ

  15. What is the NASA Full Form in Urdu?

    قومی ہوا بازی اور خلائی انتظامیہ

NASA Full FormNASA Full Form in Hindi
NASA Full Form in EnglishNASA Full Form in Bengali
NASA Full Form in MarathiNASA Full Form in Punjabi
NASA Full Form in TamilNASA Full Form in Telugu
NASA Full Form in KannadaNASA Full Form in Malayalam
NASA Full Form in UrduNASA Full Form in Odia (Oriya)
NASA Ka Full FormNASA Full Form in Space

यह भी पढ़े:-

OKR Full FormNRC Full Form
UPS Full FormXML Full Form
RIP Full FormCAA Full Form
IAS Full FormMBBS Full Form

निष्कर्ष

अंत में आशा करता हूँ कि यह NASA Full Form लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान कि गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस NASA Full Form लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रो व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें।

इसके अतिरिक्त यदि आपके मन में NASA Full Form लेख से संबंधित कोई प्रश्न उठ रहा है? तो आप कमेंट के माध्यम से हमसे पूछ सकते हैं।

हम आपके द्वारा पूछे गए सभी के प्रश्नों का उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे। भविष्य में भी हम आपके लिए ऐसे ही रोचक व उपयोगी लेख लाते रहेंगे।

अतः आप भविष्य में प्रकाशित होने वाले सभी लेखों कि ताज़ा जानकारी के लिए कृपया हमारे फेसबुक पेज और वेबसाइट को Subscribe कर ले।

ताकि आपको भविष्य में प्रकाशित होने वाले लेखों की ताज़ा जानकारी समय पर प्राप्त हो जाये।

धन्यवाद…

Leave a Comment