12 Months Name In Hindi : हिन्दू पंचांग के 12 महीनों के नाम

12 Months Name in Hindi : हिंदी पंचांग के 12 महीनों के नाम हिंदी में

12 Months Name in Hindi:- हिन्दू पंचांग (Hindu Calendar) के अनुसार एक वर्ष में कुल 12 मास (महीने, माह) होते है। जो कि अन्य पंचांगों (Calendars) की भांति समान है।

हिन्दू पंचांग (Hindu Calendar) में प्रत्येक मास (महीने, माह) को 2 पक्षों में विभाजित है, जो कि शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष है।

प्रत्येक पक्ष 15 दिन का होता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह की शुरुआत पूर्णिमा के साथ तथा खत्म भी पूर्णिमा के साथ ही होती है।

किसी माह के शुरुआत के 15 दिन पूर्णिमा से अमावस तक कृष्ण पक्ष में होते है, तथा माह के अंतिम 15 दिन अमावस से पूर्णिमा तक के शुक्ल पक्ष में होते है।

पक्षों की पहचान इसी से हो जाती है कि शुक्ल पक्ष में चाँद की कलाएं बढती है। जबकि कृष्ण पक्ष में चाँद की कलाएं घटती है।

हिन्दू धर्म के सभी धार्मिक कार्य, अनुष्ठान और पर्व आदि हिन्दू पंचांग (Hindu Calendar) पर आधारित है।

सामान्यतः आम बोलचाल की भाषा में हम सभी कैलंडर ही बोलते है, लेकिन हिंदी भाषा में कैलेंडर को ‘पंचांग’ कहा जाता है। पंचांग शब्द की उत्पत्ति संस्कृत भाषा के पंचांगम (पञ्च + अंगम) शब्द से हुई है।

इस शब्द में जिन पांच अंगों के बारे में बताया गया है, वे पांच अंग “चंद्र दिन, चंद्रमास, अर्द्ध दिन, सूर्य और चंद्रमा के कोण और सौर दिन” का प्रतीक है।

हिन्दू पंचांग (Hindu Calendar) से हमारा तात्पर्य भारत के उन सभी प्रकार के पंचांगों से है, जो सांस्कृतिक एवं धार्मिक अनुष्ठानों तथा काल गणना के लिए प्राचीन समय से ही प्रयोग होते आ रहे हैं।

इन पंचांग में समय की गणना (कालगणना) के लिए के लिए चंद्रमा एवं सूर्य, दोनों की गतियों को आधार लिया जाता है।

सभी हिन्दू पञ्चाङ्ग, कालगणना की समान संकल्पनाओं और विधियों पर आधारित होते हैं, परन्तु ये पंचांग मासों के नाम (Hindu Calendar Months Name), वर्ष का आरम्भ (वर्ष प्रतिपदा) आदि की दृष्टि से अलग होते हैं।

सूची दिखाएँ

हिन्दू पंचांग के 12 महीनों के नाम : Hindu Calendar 12 Months Name in Hindi & English

क्रमांकमहीनों के नाम (हिंदी में)महीनों के नाम (अंग्रेजी में)कुल दिनशुरुआत
पहलाचैत्रMARCH – APRIL30 – 31 दिनमार्च 22
दूसरावैशाखAPRIL – MAY31 दिनअप्रैल 21
तीसराज्येष्ठMAY – JUNE31 दिनमई 22
चौथाआषाढ़JUNE – JULY31 दिनजून 22
पांचवाश्रावण (सावन)JULY – AUGUST31 दिनजुलाई 23
छठाभाद्रपद (भादो)AUGUST – SEPTEMBER31 दिनअगस्त 23
सातवांआश्विनSEPTEMBER – OCTOBER30 दिनसितम्बर 23
आठवांकार्तिकOCTOBER – NOVEMBER30 दिनअक्टूबर 23
नौवांमार्गशीर्षNOVEMBER – DECEMBER30 दिननवम्बर 22
दसवांपौषDECEMBER – JANUARY30 दिनदिसंबर 22
ग्यारहवांमाघJANUARY – FEBRUARY30 दिनजनवरी 21
बारहवांफाल्गुन (फागुन)FEBRUARY – MARCH30 दिनफरवरी 20
12 Months Name in Hindi
Hindu Calendar 12 Months Name in Hindi English
12 Months Name in Hindi
12 Months Name in Hindi

अंग्रेजी (ग्रीक) कैलेंडर के 12 महीनों के नाम : English Calendar 12 Months Name in Hindi & English

क्रमांकमहीनों के नाम (अंग्रेजी)महीनों के नाम (हिंदी)कुल दिनक्रमांक (अंग्रेजी)
पहलाJANUARYजनवरी31 दिन1st
दूसराFEBRUARYफरवरी28 – 29 दिन2nd
तीसराMARCHमार्च31 दिन3rd
चौथाAPRILअप्रैल30 दिन4th
पांचवाMAYमई31 दिन5th
छठाJUNEजून30 दिन6th
सातवांJULYजुलाई31 दिन7th
आठवांAUGUSTअगस्त31 दिन8th
नौवांSEPTEMBERसितम्बर30 दिन9th
दसवांOCTOBERअक्टूबर31 दिन10th
ग्यारहवांNOVEMBERनवम्बर30 दिन11th
बारहवांDECEMBERदिसम्बर31 दिन12th
12 Months Name in Hindi
English Calendar 12 Months Name in Hindi English
12 Months Name in Hindi
12 Months Name in Hindi

ये भी पढ़े:-

Colours Name in Hindi : रंगों के नाम हिंदी में तस्वीरें सहित

Fruits Name in Hindi : सभी फलों के नाम हिंदी में उनकी तस्वीरें सहित

1 से 100 तक हिंदी गिनती : 1 to 100 Hindi Ginti

हिन्दू पंचांग के अनुसार नववर्ष कब मनाया जाता है?

हिन्दू पंचांग के अनुसार प्रथम माह चैत्र तथा अंतिम माह फाल्गुन है। ये दोनों महीनें वसंत ऋतु के समय आते है।

अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह मार्च का माह होता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार, हिन्दू नववर्ष की शुरुआत चैत्र माह की प्रथम तिथि से ही हो जाती है।

फाल्गुन मास की पूर्णिमा को हिन्दू धर्म का सबसे लोकप्रिय त्यौहार “होली” मनाया जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार, यह दिन वर्ष का अंतिम दिन होता है।

जबकि इसके अगले दिन सभी रंगों के साथ खेलते है। इस तिथि को चैत्र प्रथमा कहा जाता है। इसी दिन के साथ हिन्दू नववर्ष की शुरुआत होती है।

हिन्दू पंचांग में तिथि क्या होती है? और यह कितने प्रकार की होती है?

जिस प्रकार से अंग्रेजी कैलेंडर में किसी दिन को ‘Day’ कहा जाता है, वैसे ही हिन्दू पंचांग में किसी दिन को तिथि कहा जाता है।

पंचांग के अनुसार एक तिथि 19 घंटो से 24 घंटो के बीच में होती है। हिन्दू पंचांग में तिथियों का आंकलन चाँद को देखकर किया जाता है और एक माह को चंद्र मास कहा जाता है।

1 चंद्र मास में कुल 30 तिथि होती है, जो कि 2 पक्षों (शुक्ल पक्ष तथा कृष्ण पक्ष) में विभाजित होती है। माह की शुरुआत की 1 से 14 तिथि शुक्ल पक्ष में होती है, और 15वीं तिथि पूर्णिमा होती है।

इसके बाद, माह के अंतिम 15 दिनों की तिथि, 1 से 14 तक कृष्ण पक्ष में होती है और 15वीं तिथि अमावस्या होती है।

शुक्ल पक्ष
शुक्ल पक्ष
कृष्ण पक्ष
कृष्ण पक्ष

हिन्दू पंचांग के अनुसार तिथियों के नाम

पूर्णिमा के बाद प्रतिपदा तिथि से नए माह की शुरुआत होती है, तथा अमावास के बाद प्रतिपदा तिथि से उसी माह का दूसरा पक्ष ( शुक्ल पक्ष) शुरू होता है।

पूर्णिमा (पूर्णमासी, पूरनमासी)
प्रतिपदा (पड़वा)
द्वितीया (दूज)
तृतीया (तीज)
चतुर्थी (चौथ)
पंचमी (पंचमी)
षष्ठी (छठ)
सप्तमी (सातम)
अष्टमी (आठम)
नवमी (नौमी)
दशमी (दसम)
एकादशी (ग्यारस)
द्वादशी (बारस)
त्रयोदशी (तेरस)
चतुर्दशी (चौदस)
अमावस्या (अमावस)

हिन्दू पंचांग के अनुसार सभी ऋतुओं के नाम

हिन्दू पंचांग के अनुसार एक वर्ष में कुल 6 ऋतुएँ होती है। सभी ऋतुओं के क्रमानुसार नाम नीचे दिए गए है।

क्रमांक संख्याऋतुओं के नाम
1.वसंत (बसंत) ऋतु
2.ग्रीष्म ऋतु
3.वर्षा ऋतु
4.शरद ऋतु
5.हेमंत ऋतु
6.शीत (शिशिर) ऋतु

हिन्दू पंचांग राशि के अनुसार महीनों के नाम उनके पर्व व त्यौहार सहित

हिन्दू पंचांग में महीनों के नाम राशि के अनुसार रखे गए है। जिनमें प्रत्येक माह का अपना महत्व है। नीचे आपको हिन्दू पंचांग राशि के अनुसार सभी 12 महीनों के नाम और उनके त्योहारों और पर्वों की जानकारी प्रदान की गई है।

1. चैत्र माह (मेष राशि) 

हिन्दू पंचांग के अनुसार, चैत्र माह वर्ष का प्रथम माह होता है। इस माह से ग्रीष्म ऋतू की शुरूआत हो जाती है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह समय मार्च-अप्रैल के महीने में आता है। चैत्र माह के 15 दिन पहले फाल्गुन माह में हिन्दुओं का लोकप्रिय होली का त्यौहार आता है।

चैत्र माह के प्रमुख पर्व व त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती19 फरवरी
गणेश संकट चतुर्थीचैत्र कृष्ण पक्ष
वीरांगना अहिल्याबाई बलिदान दिवस17 मई
गुढी पड़वाचैत्र शुक्ल पक्ष 1
श्री राम नवमीचैत्र शुक्ल पक्ष नवमी
हनुमान जयंतीचैत्र पूर्णिमा

2. वैसाख माह (वृषभ राशि) 

हिन्दू पंचांग के अनुसार, वैसाख माह वर्ष का दूसरा (द्वितीय) माह होता है। लेकिन नेपाली, पंजाबी और बंगाली कैलेंडर के अनुसार वैसाख का माह वर्ष का प्रथम माह होता है।

अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह अप्रैल-मई का समय होता है। वैसाख माह के समय सूर्य की स्तिथि विशाखा तारे के पास होती है। इसीलिए इस माह का नाम वैसाख पड़ा।

वैसाख माह के प्रमुख पर्व व त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
गणेश चतुर्थीवैशाख कृष्ण पक्ष, 4
अक्षय तृतीया
परशुराम जयंती
मुस्लिम रमजान का आरम्भ
शुक्ल पक्ष 3
मोहिनी एकादशीवैशाख कृष्ण पक्ष 11
बुद्ध पूर्णिमावैशाख पूर्णिमा

3. ज्येष्ठ माह (मिथुन राशि)

ज्येष्ठ का माह सबसे अधिक गर्मी वाला माह होता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह मई-जून के आस पास का समय होता है।

ज्येष्ठ माह के प्रमुख पर्व व त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
गणेश संकट चतुर्थीज्येष्ठ कृष्ण पक्ष 4
फलहरिणी कालिका पूजाकृष्ण पक्ष 14
विंध्यवासनी पूजा
शीतलषष्ठी यात्रा उड़ीसा
ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष ६
गंगा दशहरा समाप्तिशुक्ल पक्ष 10
शिवराज्याभिषेक दिवसज्येष्ठ शुक्ल पक्ष 13
वट पूर्णिमाज्येष्ठ पूर्णिमा

4. आषाढ़ माह (कर्क राशि)

अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार, आषाढ़ माह जून-जुलाई माह के समय आता है। आषाढ़ महीने की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा मनाई जाती है।

आषाढ़़ के प्रमुख पर्व व त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
गणेश संकट चतुर्थी
दक्षिणायन
सौर वर्षा ऋतु आरम्भ
आषाढ़ कृष्ण पक्ष 4
योगिनी एकादशीकृष्ण पक्ष 11
आषाढ़ अमावस्या खारग्रास
सूर्यग्रहण
अमावस्या
देशिनी आषाढ़ी एकादशीशुक्ल पक्ष 11
गुरु पूर्णिमाआषाढ़ पूर्णिमा
हनुमान जयंतीचैत्र पूर्णिमा

5. श्रावण माह (सिंह राशि)

हिन्दू पंचांग के अनुसार श्रावण (सावन) माह सबसे अधिक पवित्र माह होता है। इस माह की शुरुआत से अनेकों त्यौहारों की शुरुआत हो जाती है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह माह जुलाई-अगस्त माह के समय में आता है।

श्रावण माह के प्रमुख पर्व व त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
गणेश संकट चतुर्थीश्रावण कृष्ण पक्ष 4
नागपंचमीशुक्ल पक्ष 5
नारियल पूर्णिमा
रक्षाबंधन
श्रावण पूर्णिमा

6. भाद्रपद माह (कन्या राशि)

अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार, भाद्रपद (भादों) माह अगस्त-सितम्बर माह के समय आता है। इस माह को पुरात्तासी भी कहते है। इस माह की शुरुआत में ही हरितालिका तीज, गणेश चतुर्थी, ऋषि पंचमी आती है।

भाद्रपद माह के प्रमुख पर्व व त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
पतेतीभाद्रपद कृष्ण पक्ष 1
गणेश संकट चतुर्थीकृष्ण पक्ष 4
श्री कृष्ण जयंतीकृष्ण पक्ष 7
जन्माष्टमी
गोपालाष्टमी
भाद्रपद कृष्ण पक्ष 8
हरतालिका तृतीया
गौरी व्रत
भाद्रपद शुक्ल पक्ष 3
ऋषि पंचमीभाद्रपद शुक्ल पक्ष 5
अनंत चतुर्दशी
श्राद्ध आरंभ (15 दिनों के लिए)
भाद्रपद शुक्ल पक्ष 14

7. आश्विन माह (तुला राशि)

आश्विन माह को कुआर माह भी कहा जाता है। भाद्र पक्ष की अमावस्या के बाद इस माह शुरुआत होती है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार, आश्विन माह सितम्बर-अक्टूबर माह में आता है।

आश्विन माह के प्रमुख पर्व व त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
अंगारक गणेश संकट चतुर्थीआश्विन कृष्ण पक्ष 3
श्राद्ध का समापनआश्विन अमावस्या
घटस्थापनाशुक्ल पक्ष 1
दशहरा (विजयादशमी)आश्विन शुक्ल पक्ष 10
किजागरी पूर्णिमाआश्विन पूर्णिमा

8. कार्तिक माह (वृश्चिक राशि)

भारत के गुजरात राज्य में नववर्ष की शुरुआत दिवाली होती है और कार्तिक माह, वर्ष का पहला माह होता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह माह अक्टूबर-नवम्बर के समय में आता है।

कार्तिक माह के प्रमुख पर्व व त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
गणेश संकट चतुर्थीकार्तिक शुक्ल पक्ष 3
धनदर्योदशीकार्तिक कृष्ण पक्ष 12
नरक चतुर्दशी
लक्ष्मी पूजा
कृष्ण पक्ष 14
दीपावली
बलिप्रदा
कार्तिक अमावस्या
भाई दूजशुक्ल पक्ष 2
गुरु नानक जयंती
तुलसी विवाह
कार्तिक पूर्णिमा

9. मार्गशीर्ष माह (धनु राशि) 

मार्गशीर्ष माह में वैकुण्ठ एकादशी (मोक्ष एकादशी) बड़ी धूमधाम से मनाई जाती है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह माह नवम्बर-दिसम्बर के समय आता है।

मार्गशीर्ष माह के प्रमुख पर्व व त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
गणेश संकट चतुर्थीमार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष 4
श्रीदत्त जयंतीमार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष 14

10. पौष माह (मकर राशि) 

अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार पौष माह दिसम्बर-जनवरी के समय आता है। यह सर्दी का समय होता है और इस समय सभी स्थानों पर बहुत अधिक सर्द माहौल होता है।

पौष माह के प्रमुख त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
गणेश संकट चतुर्थीपौष कृष्ण पक्ष 4
लोहड़ीपौष कृष्ण पक्ष
मकर संक्रांतिकृष्ण पक्ष 9

11. माघ माह (कुंभ राशि)

माघ के माह में सूर्य, कुंभ राशि में प्रवेश करता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार पूष माह जनवरी-फरवरी के समय में आता है

माघ माह के प्रमुख पर्व व त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
गणेश संकट चतुर्थीमाघ कृष्ण पक्ष 4
मौनी अमावस्याअमावस्या
सौर वसंत ऋतु प्रारम्भमाघ शुक्ल पक्ष 14

12. फाल्गुन माह (मीन राशि) 

हिन्दू पंचांग में फाल्गुन माह, वर्ष का अंतिम माह होता है। जबकि बंगाल में फाल्गुन माह 11वां माह होता है।

बांग्लादेश में फाल्गुन माह के प्रथम दिन पोहेला फाल्गुन मनाया जाता है। नेपाल में फाल्गुन के प्रथम दिन रंगों का त्यौहार ‘होली’ को बड़ी धूमधाम से मनाते है।

फाल्गुन माह के प्रमुख पर्व व त्यौहार

पर्व व त्यौहारतिथि एवं पक्ष
विजय एकादशीफाल्गुन कृष्ण पक्ष 11
महाशिवरात्रिफाल्गुन कृष्ण पक्ष 13
होलीशुक्ल पक्ष 14
धुलण्डी
धूलिवंदन
फाल्गुन पूर्णिमा

FAQ’s About Months Name in Hindi

यह भी पढ़े:-

OKR Full FormNRC Full Form
UPS Full FormXML Full Form
RIP Full FormCAA Full Form
IAS Full FormMBBS Full Form
NASA Full FormGDP Full Form
12 Months Name in HindiMonths Name in Hindi
Months Name in Hindi & EnglishHindu Months Name in Hindi
All Months Name in HindiDesi Months Name in Hindi
Months Name in Hindi LanguageHindu Months Name in Hindi With Seasons
Months Name in Hindi

निष्कर्ष

अंत में आशा करता हूँ कि यह Months Name in Hindi लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान कि गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

इसके अतिरिक्त यदि आपके मन में Months Name in Hindi लेख से संबंधित कोई प्रश्न उठ रहा है? तो आप कमेंट के माध्यम से हमसे पूछ सकते हैं।

हम आपके द्वारा पूछे गए सभी के प्रश्नों का उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे। भविष्य में भी हम आपके लिए ऐसे ही रोचक व उपयोगी लेख लाते रहेंगे।

अतः आप भविष्य में प्रकाशित होने वाले सभी लेखों कि ताज़ा जानकारी के लिए कृपया हमारे फेसबुक पेज और वेबसाइट को Subscribe कर ले।

ताकि आपको भविष्य में प्रकाशित होने वाले लेखों की ताज़ा जानकारी समय पर प्राप्त हो जाये।

धन्यवाद…

Leave a Comment