GDP क्या है? और GDP की गणना कैसे की जाती है?

GDP Full Form in Hindi:- GDP एक ऐसा शब्द है, जिसका प्रयोग किसी भी देश की अर्थव्यवस्था को मापने और समझने के लिए किया जाता है।

किसी भी देश की GDP दर अधिक होने पर उसकी अर्थव्यवस्था को मजबूत तथा GDP दर कम होने पर अर्थव्यवस्था को कमजोर माना जाता है।

GDP दर के अधिक व कम होने का सम्पूर्ण श्रेय उस देश की सरकार को दिया जाता है, क्योंकि किसी भी देश की आर्थिक नीतियों का निर्धारण उस देश की सरकार ही करती है।

एक अच्छी आर्थिक नीति के बदौलत उस देश की GDP दर मजबूत भी हो सकती है, तो वहीं गलत आर्थिक नीति के कारण देश की अर्थव्यवस्था ठप भी पड़ सकती है और GDP दर कमजोर भी हो सकती है।

इसलिए राष्ट्र सरकार आर्थिक नीतियों का निर्धारण बहुत ही सोच-समझकर किया करती है। इस लेख में हम आपको GDP के बारे में सम्पूर्ण जानकारी विस्तारपूर्वक प्रदान करेंगे।

जिसमें GDP क्या है?, GDP के कितने प्रकार है?, GDP की गणना कैसे की जाती है? और GDP Ka Full Form क्या है? आदि के बारे में बताया जायेगा। तो चलिए शुरू करते है:-

सूची दिखाएँ

GDP का क्या अर्थ है? (GDP Meaning in Hindi)

किसी देश में उत्पादित या निर्मित सभी वस्तुओं का कुल बाजार मूल्य ही GDP कहलाता है। GDP का पूरा नाम “Gross Domestic Product” अथवा “सकल घरेलु उत्पाद” है।

GDP का प्रयोग अर्थव्यवस्था के विकास और गिरावट की स्थिति को मापने के लिए किया जाता है।

यदि किसी देश की GDP Rate अधिक है और नियमित रूप से बढ़ रही है, तो उस देश की अर्थव्यवस्था मजबूत मानी जाती है।

वहीं यदि किसी देश की GDP Rate कम है और नियमित रूप से कम होती जा रही है, तो उस देश की अर्थव्यवस्था कमजोर मानी जाती है। भारत में GDP की गणना हर 3 माह में की जाती है।

सन 2020 में भारत की GDP Rate लगभग 5 प्रतिशत के आस-पास है। भारत की GDP में 3 घटक अपना महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करते है। जो कि उद्योग क्षेत्र, सेवा क्षेत्र और कृषि क्षेत्र है।

किसी देश की सीमा के अंदर उत्पादित वस्तु उसी देश की GDP में शामिल होगी। चाहे फिर उस वस्तु का उत्पादन सरकार ने किया हो या फिर नागरिकों ने किया हो या फिर किसी विदेशी कंपनी ने किया हो।

उदहारण के तौर पर मान लीजिए कि एक कंपनी जूतों का निर्माण करती है। जहाँ पर जूता बनकर बिक्री के लिए तैयार होता है, तो उसमें सिर्फ बिक्री मूल्य को ही शामिल किया जाता है।

इसके अतिरिक्त उस पर अन्य किसी भी प्रकार का मूल्य शामिल नहीं किया जाता है। अब यहाँ पर समझने वाली बात यह है कि जूता किसी एक ही वस्तु से तो नहीं बना होता है।

जूता बनाने में उसकी लेस का भी इस्तेमाल किया जाता है और उसमें एक शोल भी इस्तेमाल किया जाता है, जिसे जूते में अलग से डाला जाता है। इन्हीं सभी वस्तुओं से मिलकर ही एक जूते का निर्माण होता है।

इसमें सभी वस्तुओं के अलग-अलग मूल्य जरुर होंगे, लेकिन उपभोक्ता से इन सभी वस्तुओं का सिर्फ एक मूल्य लिया जाता है, जो कि उस सम्पूर्ण उप्ताद अथवा वस्तु का मूल्य होता है।

GDP Full Form in Hindi, English, Marathi, Gujarati, Punjabi, Bengali, Urdu, Odia (Oriya) Tamil, Telugu, Kannada & Malayalam

GDP FULL FORM IN ENGLISH
GROSS DOMESTIC PRODUCT
GDP FULL FORM IN HINDI
सकल घरेलु उत्पाद
GDP FULL FORM IN MARATHI
सकल घरगुती उत्पादन
GDP FULL FORM IN GUJARATI
કુલ ઘરેલું ઉત્પાદન
GDP FULL FORM IN TAMIL
மொத்த உள்நாட்டு உற்பத்தி
GDP FULL FORM IN TELUGU
స్థూల దేశీయ ఉత్పత్తి
GDP FULL FORM IN KANNADA
ಒಟ್ಟು ದೇಶೀಯ ಉತ್ಪನ್ನ
GDP FULL FORM IN MALAYALAM
മൊത്തം ഗാർഹിക ഉൽപ്പന്നം
GDP FULL FORM IN PUNJABI
ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਤਿਆਰ ਕੀਤੇ ਸਮਾਨ ਅਤੇ ਸੇਵਾਵਾਂ ਦਾ ਮੁੱਲ ਨਿਰਧਾਰਨ
GDP FULL FORM IN BENGALI
মোট দেশীয় পণ্য
GDP FULL FORM IN ODIA (ORIYA)
ମୋଟ ଘରୋଇ ଉତ୍ପାଦ |
GDP FULL FORM IN URDU
مجموعی ملکی پیداوار

GDP कितने प्रकार की होती है? (How Many Types of GDP in Hindi?)

सामान्यतः GDP (Gross Domestic Product) मुख्य रूप से 2 प्रकार की होती है। GDP के प्रकार दोनों प्रकार और उनका वर्णन नीचे विस्तारपूर्वक रूप से किया गया है।

GDP के प्रकार:-

  • Constant Price GDP (स्थिर मूल्य सकल घरेलू उत्पाद)
  • Current Price GDP (वर्तमान मूल्य सकल घरेलू उत्पाद)

स्थिर मूल्य सकल घरेलू उत्पाद क्या है? (What is Constant Price GDP in Hindi?)

समय के परिवर्तन के अनुसार महंगाई घटती व बढ़ती रहती है। इसलिए केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (Central Statistics Office), भारत में वस्तु उत्पादन व सेवा के मूल्यांकन के लिए एक आधार वर्ष निर्धारित करता है।

इस आधार वर्ष के आधार पर वस्तुओं के उत्पादन और सेवाओं की वृद्दि दर निर्धारित की जाती है, जो कि Constant Price GDP अर्थात स्थिर मूल्य सकल घरेलू उत्पाद कहलाती है।

वर्तमान मूल्य सकल घरेलू उत्पाद क्या है? (What is Current Price GDP in Hindi?)

Current Price GDP अर्थात वर्तमान मूल्य सकल घरेलू उत्पाद के अनुसार, वस्तु के उत्पादन मूल्य के साथ उस वर्ष की महंगाई दर को भी शामिल किया जाता है, जो कि Current Prize GDP (वर्तमान मूल्य सकल घरेलू उत्पाद) कहलाती है।

भारत में GDP के कुल कितने घटक है?

भारत में GDP के कुल 3 घटक है। जिनके बारे में नीचे विस्तारपूर्वक वर्णन सहित सम्पूरी जानकारी प्रदान की गई है।

प्राथमिक घटक

GDP के इस घटक में कृषि क्षेत्र से सम्बन्धित वस्तुओं का मूल्य ज्ञात किया जाता है।

द्वितीयक घटक

GDP के इस घटक में उद्योग क्षेत्र से सम्बन्धित वस्तुओं का मूल्य ज्ञात किया जाता है।

तृतीयक घटक

GDP के इस घटक में सेवा क्षेत्र से सम्बन्धित वस्तुओं का मूल्य ज्ञात किया जाता है।

GDP की गणना कैसे की जाती है? (How To Calculate GDP in Hindi?)

  • कुल सकल घरेलू उत्पाद (GDP) = उपभोग (Consumption) + कुल निवेश
  • GDP = C + I + G + (X – M)

GDP = Private Consumption + Gross Investment + Government Investment + Government Spending + (Exports – Imports)

C – Private consumption

I – Gross investment

G – Government investment

X – Exports

M – Imports

C: उपभोग (Consumption)

GDP के इस Formula में C का अर्थ उपभोग (Consumption) है। किसी देश के लोगों के व्यक्तिगत घरेलू व्यय जैसे भोजन, किराया, चिकित्सा व्यय और इस तरह के घरेलू व्यय को इसमें शामिल किया जाता है। लेकिन नए घर को इसमें शामिल नहीं किया जाता हैं।

I: कुल निवेश (Investment)

GDP के इस Formula में I का अर्थ कुल निवेश (Investment) है। देश की घरेलू सीमाओं में वस्तुओं और सेवाओं पर सभी संस्थानों द्वारा किये गए कुल खर्च को ही कुल निवेश कहा जाता है।

G: सरकारी खर्च (Government Spending)

GDP के इस Formula में G का अर्थ सरकारी खर्च (Government Spending) है। जिसमें सरकार द्वारा किये गए सभी प्रकार के खर्च शामिल होते है। जैसे:- सरकार द्वारा किया गया निवेश, सभी प्रकार के सरकारी कर्मचारियों का वेतन, रक्षा सामग्री की खरीद इत्यादि।

X: निर्यात (Export)

GDP के इस Formula में X का अर्थ निर्यात (Export) हैं। इसमें देश में उत्पादन को किसी दूसरे देश के उपभोग के लिए वस्तुओं और सेवाओं का उत्पादन किया जाता हैं, जिसे सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में शामिल किया जाता है।

M: आयात (Import)

GDP के इस Formula में M का अर्थ आयात (Import) हैं। आयात में हम उन वस्तुओं और सेवाओं को शामिल करते है, जिनका उत्पादन हमारे देश की सीमारेखा के अंदर नहीं किया जाता है औऱ GDP ज्ञात करते समय आयात को घटा दिया जाता है।

GDP का महत्व (Importance of GDP)

  • GDP के मामले में हर एक घटक को उसी के सापेक्ष मूल्य में महत्व दिया जाता है।
  • GDP से निवेशक को अर्थव्यवस्था की स्थिति के बारे में मार्गदर्शन प्रदान करके उनके संविभाग को प्रबंधित करने में मदद करता है।
  • GDP किसी भी देश की अर्थव्यवस्था के लिए सबसे अच्छा विकल्प है। अनुसंधानों से प्राप्त होने वाले आंकड़ों में सुधार के साथ सरकार Gross Domestic Product को मजबूत करने के लिए कोशिश करती है और उसे मजबूत करने के उपाय को पता लगाने के लिए कोशिश करती है।
  • सकल घरेलु उत्पाद की गणना अर्थव्यवस्था के सामान्य स्वास्थ्य के साथ प्रदान करती है। एक नकारात्मक GDP विकास अर्थव्यवस्था के लिए बुरे संकेतों का सूचक है। अर्थशास्त्री सकल घरेलु उत्पाद का विश्लेषण इसलिए करते हैं ताकि यह ज्ञात किया जा सके कि अर्थव्यवस्था मंदी में है या फिर उछाल में है।
  • इस में उपभोक्ता का खर्च निवेश में होने वाले खर्च, सरकारी खर्च और शुद्ध निर्यात शामिल है। इसलिए यह एक अर्थव्यवस्था के सभी खर्चों को बताता है। क्योंकि निवेशकों को एक दृष्टिकोण प्रदान करता है, जो कि सकल घरेलु उत्पाद के स्तर की एक अंतर्दृष्टि के रूप में तुलना करके अर्थव्यवस्था की प्रवृत्ति को उजागर करता है।

GDP विकास दर के फायदे

Higher Average Incomes

यह उपभोक्ता का अधिक वस्तुओं और सेवाओं का आनंद लेने और जीवनयापन के 72 मापदंडों का आनंद लेने में सक्षम बनाता है।

20वीं शताब्दी के दौरान आर्थिक विकास गरीबी के पूर्ण स्तर को कम करने और जीवन प्रत्याशी में विधि को सक्षम करने का एक प्रमुख कारक था।

Lower Unemployment

अधिक उत्पादन और सकारात्मक आर्थिक विकास के साथ कंपनियां रोजगार के अधिक अवसर पैदा करती हैं। जिससे अधिक मजदूरों को रोजगार प्राप्त हो सके।

Lower Government Borrowing

आर्थिक विकास अधिक कर (Tax) का राजस्व बनाता है। बेरोजगारी की समस्या पर पैसे खर्च करने की आवश्यकता होती है।

इसीलिए आर्थिक विकास सरकारी उधार को कम करने में मदद करता है। आर्थिक विकास भी कर्ज को Gross Domestic Product अनुपात में कम करने में भूमिका निभाता है।

Improved Public Services

बढ़े हुए कर (Tax) के साथ सरकार जनता सेवा जैसे राष्ट्रीय राजमार्ग और शिक्षा पर अधिक खर्च कर सकती है।

Money Can be Spent on Protecting the Environment

वास्तविक GDP के साथ एक समाज पुनरावृत्ति को बढ़ावा देने और नवीकरणीय संसाधन के उपयोग के लिए अधिक संसाधनों को बढ़ावा दे सकता है।

Investment

आर्थिक विकास कंपनियों का भविष्य की मांग को पूरा करने के लिए निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

उच्च निवेश भविष्य के आर्थिक वृद्धि के लिए गुंजाइश बढ़ाता है। आर्थिक विकास निवेश का एक आभासी चक्र बनाता है।

Increased Research and Development

उच्च अर्थव्यवस्था विकास से कंपनियों के लिए लाभ में वृद्धि होती है, जिससे अनुसंधानों और विकास पर अधिक खर्च होता है।

इसके अलावा लगातार आर्थिक विकास से आत्मविश्वास बढ़ता है और कंपनियों को जोखिम उठाने और कुछ नया करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

GDP की शुरुआत कब और कैसे हुई?

1930 के दशक में द्वितीय विश्व युद्ध खत्म हो चुका था और सम्पूर्ण विश्व आर्थिक मंदी से ग्रस्त था। उसके बाद करीब 10 वर्ष के बाद सम्पूर्ण विश्व इस आर्थिक मंदी से बाहर निकले थे।

उसके पश्चात देश के आर्थिक विकास का पता लगाने के लिए ऐसे तरीके के बारे में खोज शरू हुई, जिससे देश के आर्थिक विकास की दर ज्ञात की जा सके।

लेकिन, उस समय देश की आर्थिक विकास दर के मापने का कोई भी तरीक़ा मौजूद नहीं था। इसलिए उस समय देश की बैंकिंग कम्पनियां इस मुहीम में आगे आई। जिसमें वित्तीय संस्थान और बैंक शामिल थे।

उन्होंने देश को भरोसा दिलाया कि वह देश के आर्थिक विकास का हिसाब तैयार करेगी और उसे देश के सामने पेश करेगी। इस तरह देश के आर्थिक विकास मापने का काम बैंकों को दे दिया गया।

लेक़िन देश के आर्थिक विकास के मापन का कोई स्थायी तरीक़ा नहीं होने के कारण यह व्यवस्था भी देश के आर्थिक विकास का सही आंकलन नहीं कर पाई।

उसके बाद सन 1935-44 के दौरान अमेरिका में सबसे पहले एक शब्द GDP का इस्तेमाल किया गया। जिसे अमेरिका के अर्थशास्त्री साइमन ने उजागर किया था।

जिसको अमेरिकी कांग्रेस में प्रस्तुत किया गया औऱ पहली बार GDP का विचार पेेश किया।

सन 1944 में ब्रेटन बुड्स सम्मेलन के बाद विश्व बैंक और अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष के द्वारा अर्थव्यवस्था और इसकी सालाना बढ़ोत्तरी का पता लगाने के लिए GDP शब्द इस्तेमाल किया जाने लगा।

जिसके बाद यह काफ़ी विख्यात हुआ और फिऱ देश के आर्थिक विकास को मापने का पैमाना GDP बन गया।

Frequently Asked Questions (FAQs) About GDP

What is the GDP Full Form in English?

Gross Domestic Product

What is the GDP Full Form in Hindi?

सकल घरेलु उत्पाद

What is the GDP Full Form in Marathi?

सकल घरगुती उत्पादन

What is the GDP Full Form in Gujarati?

કુલ ઘરેલું ઉત્પાદન

What is the GDP Full Form in Tamil?

மொத்த உள்நாட்டு உற்பத்தி

What is the GDP Full Form in Telugu?

స్థూల దేశీయ ఉత్పత్తి

What is the GDP Full Form in Kannada?

ಒಟ್ಟು ದೇಶೀಯ ಉತ್ಪನ್ನ

What is the GDP Full Form in Malayalam?

മൊത്തം ഗാർഹിക ഉൽപ്പന്നം

What is the GDP Full Form in Punjabi?

ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਤਿਆਰ ਕੀਤੇ ਸਮਾਨ ਅਤੇ ਸੇਵਾਵਾਂ ਦਾ ਮੁੱਲ ਨਿਰਧਾਰਨ

What is the GDP Full Form in Bengali?

মোট দেশীয় পণ্য

What is the GDP Full Form in Odia (Oriya)?

ମୋଟ ଘରୋଇ ଉତ୍ପାଦ |

What is the GDP Full Form in Urdu?

مجموعی ملکی پیداوار

GDP Full FormGDP Full Form in Hindi
GDP Full Form in EnglishGDP Full Form in Bengali
GDP Full Form in MarathiGDP Full Form in Punjabi
GDP Full Form in TamilGDP Full Form in Telugu
GDP Full Form in KannadaGDP Full Form in Malayalam
GDP Full Form in UrduGDP Full Form in Odia (Oriya)
GDP Ka Full FormGDP Full Form in Economics
GDP Full Form in BiologyGDP Full Form in Finance

यह भी पढ़े:-

OKR Full FormNRC Full Form
UPS Full FormXML Full Form
RIP Full FormCAA Full Form
IAS Full FormMBBS Full Form
NASA Full FormFull-Form in Hindi

निष्कर्ष

अंत में आशा करता हूँ कि यह GDP Full Form लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान कि गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस GDP Full Form लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रो व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें।

इसके अतिरिक्त यदि आपके मन में GDP Full Form लेख से संबंधित कोई प्रश्न उठ रहा है? तो आप कमेंट के माध्यम से हमसे पूछ सकते हैं।

हम आपके द्वारा पूछे गए सभी के प्रश्नों का उत्तर देने की पूरी कोशिश करेंगे। भविष्य में भी हम आपके लिए ऐसे ही रोचक व उपयोगी लेख लाते रहेंगे।

अतः आप भविष्य में प्रकाशित होने वाले सभी लेखों कि ताज़ा जानकारी के लिए कृपया हमारे फेसबुक पेज और वेबसाइट को Subscribe कर ले।

ताकि आपको भविष्य में प्रकाशित होने वाले लेखों की ताज़ा जानकारी समय पर प्राप्त हो जाये।

धन्यवाद…

Leave a Comment